Tuesday, April 16, 2024
Homeअंतर्राष्ट्रीयदक्षिण कोरिया में हड़ताल पर गए 10 हजार से ज्यादा डॉक्टर और...

दक्षिण कोरिया में हड़ताल पर गए 10 हजार से ज्यादा डॉक्टर और 80 फीसदी स्टाफ, सरकार ने दी गंभीर चेतावनी

सियोल, 29 फरवरी (वेब वार्ता)। दक्षिण कोरिया में 10 हजार से ज्यादा डॉक्टरों और 80 फीसदी प्रशिक्षू स्टॉफ के हड़ताल पर चले जाने से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई है। इससे मरीज बेहाल हो उठे हैं। डॉक्टरों की व्यापक हड़ताल को देखते हुए दक्षिण कोरिया की सरकार ने उनके लिए अब गंभीर चेतावनी जारी कर दी है। सरकार ने दक्षिण कोरिया के हड़ताली डॉक्टरों से साफ कह दिया है कि या तो वह समय सीमा पर हड़ताल से वापस लौट आएं या फिर कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें। दक्षिण कोरिया के स्वास्थ्य मंत्री चो क्यू-होंग ने स्थानीय एसबीएस रेडियो को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि अगर हड़ताली डॉक्टर दिन के अंत (29 फरवरी) तक वापस नहीं लौटते हैं, तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

दक्षिण कोरिया के स्वास्थ्य मंत्री ने गुरुवार को कहा कि अधिकांश हड़ताली डॉक्टर समय सीमा के बावजूद काम पर नहीं लौटे हैं, उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर डॉक्टरों ने हड़तल खत्म नहीं की तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों के काम बंद करने से अस्पतालों में अराजकता फैल गई है। बता दें कि लगभग 10,000 जूनियर डॉक्टरों के अलावा लगभग 80 प्रतिशत प्रशिक्षु कार्यबल  ने एक नोटिस सौंपने के बाद पिछले सप्ताह नौकरी छोड़कर हड़ताल पर चले गए। डॉक्टरों ने मेडिकल स्टाफ की कमी और बढ़ती उम्र वाले समाज से निपटने के लिए मेडिकल स्कूल में प्रवेश में तेजी से वृद्धि करने की सरकार की योजना का विरोध किया।

सेवा की गुणवत्ता को नुकसान का दावा

डॉक्टरों का कहना है कि सरकार की योजना से सेवा की गुणवत्ता को नुकसान पहुंचेगा। उद्योग समूहों ने सरकार की “डराने-धमकाने की रणनीति” की आलोचना की है। दक्षिण कोरियाई कानून के तहत, डॉक्टरों को हड़ताल करने से प्रतिबंधित किया गया है और सरकार ने गुरुवार तक काम पर नहीं लौटने वाले डॉक्टरों को गिरफ्तार करने और मेडिकल लाइसेंस निलंबित करने की धमकी दी है। स्वास्थ्य मंत्री चो क्यू-होंग ने गुरुवार तड़के स्थानीय एसबीएस रेडियो के साथ एक साक्षात्कार में कहा, “अगर जूनियर डॉक्टर आज के अंत तक लौटते हैं, तो हम उन्हें जवाबदेह नहीं ठहराएंगे।” चो ने कहा, वॉकआउट में शामिल होने वाले कुछ प्रशिक्षु डॉक्टर बाद में अपने अस्पतालों में लौट आए हैं, लेकिन “पूर्ण पैमाने पर वापसी अभी तक नहीं हुई है”। “चूंकि आज वापसी का आखिरी दिन है, मैं उनसे मरीजों के लिए ऐसा करने का आग्रह करता हूं।”

मरीजों के इलाज प्रभावित

बड़े पैमाने पर काम रुकने के परिणामस्वरूप सर्जरी, कीमोथेरेपी और सी-सेक्शन को रद्द और स्थगित करना पड़ा। साथ ही सरकार ने अपनी सार्वजनिक स्वास्थ्य चेतावनी को उच्चतम स्तर तक बढ़ा दिया। चो ने स्वास्थ्य पेशेवरों की कमी और उभरते जनसांख्यिकीय संकट का हवाला देते हुए कहा कि सरकार अपनी सुधार योजना के लिए प्रतिबद्ध है, जिससे मेडिकल स्कूल में प्रवेश में 65 प्रतिशत की वृद्धि होगी। उन्होंने कहा, “अगर हम (वृद्धि का) दायरा कम करते हैं…तो इससे आवश्यक चिकित्सा कार्यबल उपलब्ध कराने में देरी होगी।” मतदान से पता चलता है कि दक्षिण कोरिया की 75 प्रतिशत जनता सुधारों का समर्थन करती है और राष्ट्रपति यूं सुक येओल, जिन्होंने हड़ताली डॉक्टरों पर सख्त रुख अपनाया है, ने अप्रैल के विधायी चुनाव से पहले अपनी अनुमोदन रेटिंग में वृद्धि देखी है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमारे बारें में

वेब वार्ता समाचार एजेंसी

संपादक: सईद अहमद

पता: 111, First Floor, Pratap Bhawan, BSZ Marg, ITO, New Delhi-110096

फोन नंबर: 8587018587

ईमेल: webvarta@gmail.com

सबसे लोकप्रिय

Recent Comments