Thursday, April 18, 2024
Homeकारोबारअस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा पेटीएम!, मैक्वेरी ने कर दिया है डाउनग्रेड,...

अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा पेटीएम!, मैक्वेरी ने कर दिया है डाउनग्रेड, कंपनी के लिए कही ये बात

नई दिल्ली। पेटीएम के सामने बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है। ब्रोकरेज हाउस मैक्वेरी इक्विटी रिसर्च के मुताबिक, कंपनी सरवाइवल (अस्तित्व की लड़ाई) के लिए लड़ रही है। दरअसल, मैक्वेरी इक्विटी रिसर्च ने पेटीएम की मूल कंपनी वन 97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड को ‘अंडरपरफॉर्म’ करने के लिए डाउनग्रेड कर दिया है। साथ ही टारगेट प्राइस में भी 58% की कटौती कर दी है। एनडीटीवी प्रॉफिट की खबर के मुताबिक, मैक्वेरी इक्विटी रिसर्च पेमेंट फर्म पेटीएम को अस्तित्व की लड़ाई के रूप में देखता है। मैक्वेरी ने मंगलवार को एक रिपोर्ट में कहा कि हाल के आदेशों के बाद, पेटीएम को ग्राहकों के पलायन का गंभीर खतरा है, जो इसके मुद्रीकरण और व्यापार मॉडल को काफी खतरे में डाल रहा है।

स्टॉक के टारगेट प्राइस में बड़ी कटौती

खबर के मुताबिक, मैक्वेरी का कहना है कि अलग-अलग सेक्शन में राजस्व में भारी कमी के चलते स्टॉक का टारगेट प्राइस पहले के 650 रुपये से घटाकर 275 रुपये प्रति शेयर कर दिया गया है। मौजूदा समय में, पेटीएम के 33 करोड़ कस्टमर्स हैं। इनमें 11 करोड़ मंथली लेनदेन वाले यूजर्स हैं। इसके पास 1 करोड़ से अधिक व्यापारियों का नेटवर्क भी है। मैक्वेरी ने कहा कि हमने राजस्व में तेजी से कटौती की क्योंकि हमने भुगतान और वितरण व्यवसाय राजस्व दोनों को कम कर दिया। खबर के मुताबिक, एक रिसर्च रिपोर्ट में कहा गया है कि पेमेंट बैंक के ग्राहकों को दूसरे बैंक खाते में ले जाने या संबंधित व्यापारी खातों को दूसरे बैंक खाते में ले जाने के लिए अपने ग्राहक को जानें की दोबारा जांच करने की जरूरत पड़ेगी। इसका मतलब है कि आरबीआई की 29 फरवरी की समय सीमा के भीतर कंपनी को एक कठिन कार्य करना होगा।

क्या हुआ था पेटीएम पर एक्शन

बता दें, बीते 31 जनवरी को, भारतीय रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर अत्यधिक कारोबारी प्रतिबंध लगा दिए। आरबीआई ने 29 फरवरी के बाद ग्राहक खातों में नई जमा राशि पर रोक लगा दी। नियामक ने ग्राहकों को भुगतान निकासी या हस्तांतरण लेनदेन के माध्यम से अपने मौजूदा बैलेंस राशि का इस्तेमाल करने की अनुमति दी। मैक्वेरी ने कहा कि इसका नतीज अब यह हुआ है कि प्रतिबंधों के बाद, मूल ऐप पेटीएम के साथ काम करने वाले ऋणदाता भी अपने रिश्तों की समीक्षा कर रहे हैं।

लोन देने वाले भागीदारों में से एक, आदित्य बिड़ला कैपिटल ने पहले ही पेटीएम के माध्यम से अपने ‘अभी खरीदें, बाद में भुगतान करें’ एक्सपोजर को 2,000 करोड़ रुपये के शिखर से घटाकर 600 करोड़ रुपये कर दिया है। हमारा टारगेट प्राइस इस धारणा पर आधारित है कि पेटीएम एक चिंता का विषय बना हुआ है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमारे बारें में

वेब वार्ता समाचार एजेंसी

संपादक: सईद अहमद

पता: 111, First Floor, Pratap Bhawan, BSZ Marg, ITO, New Delhi-110096

फोन नंबर: 8587018587

ईमेल: webvarta@gmail.com

सबसे लोकप्रिय

Recent Comments