जिस राजा की जमीन पर रखी गई AMU की नींव, उसके नाम पर यूनिवर्सिटी बनाएगी योगी सरकार

New Delhi: राजा महेंद्र प्रताप सिंह (Raja Mahendra Pratap Singh) के नाम से अलीगढ़ में राज्य विश्वविद्यालय (University in Aligarh) बनाने की घोषणा के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अधिकारियों को निर्माण के काम में तेजी लाने को कहा।

दरअसल अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) को संपत्ति दान करने वाले राजा महेंद्र प्रताप सिंह (Raja Mahendra Pratap Singh) के नाम पर अलीगढ़ में विश्वविद्यालय (University in Aligarh) बनाने की घोषणा यूपी में बीजेपी सरकार के बनने के एक साल बाद ही कर दी गई थी। सरकार का टारगेट है कि 2022 के पहले यूनिवर्सिटी तैयार हो जाए।

दरअसल अलीगढ़ एक जाट बाहुल्य क्षेत्र है जहां राजा महेंद्र प्रताप (Raja Mahendra Pratap Singh) के नाम पर एक विश्वविद्यालय की मांग 2018 में उठी थी। वहीं साल 2019 में उपचुनाव के वक्त सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने खुद उनके नाम पर स्टेट यूनिवर्सिटी की स्थापना करने की घोषणा की थी।

उन्होंने (CM Yogi Adityanath) कहा था कि AMU को राजा महेंद्र प्रताप (Raja Mahendra Pratap Singh) ने जमीन दान की लेकिन फिर भी सभी लोगों को लाभ नहीं मिल सका। जिसके बाद योगी सरकार (Yogi Govt) ने 2019 में राजा महेंद्र प्रताप के नाम पर अलीगढ़ में एक नया विश्वविद्यालय स्थापित करने का भरोसा दिलाया था।

राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने दी थी जमीन

ऐसा माना जाता है कि राजा महेंद्र प्रताप सिंह (Raja Mahendra Pratap Singh) ने एएमयू (अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय) के लिए जमीन दी थी, लेकिन उनके नाम का उल्लेख नहीं किया गया था और उनके नाम पर एक भी पत्थर नहीं लगाया गया था। ऐसे में राज्य सरकार ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाब में महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर राज्य स्तरीय विश्वविद्यालय बनाने का फैसला लिया है।

37 हेक्टेयर जमीन देने का किया गया है फैसला

यूपी के सूचना निदेशक शिशिर सिंह ने कहा कि सीएम ने 14 सितंबर, 2019 को विश्वविद्यालय के निर्माण की घोषणा की। कोल तहसील के लोढ़ा और मुसईपुर गांवों में विश्वविद्यालय के लिए भूमि प्रस्तावित की गई है। जिला प्रशासन ने 37 हेक्टेयर से अधिक सरकारी भूमि देने का निर्णय किया है। इसके अलावा अन्य 10 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहित की गई है।

9 सितंबर, 1920 को AMU को मिला था सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा

बता दें कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय देश के प्रमुख केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में से एक है। वर्तमान में जिसे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के तौर पर जानते हैं, उस आवासीय शैक्षणिक संस्थान की स्थापना देश के महान समाज सुधारक सर सैयद अहमद खान ने 1875 में की थी, जिसे मुस्लिम एंग्लो ओरिएंटल कॉलेज कहा गया और फिर 1920 में नौ सितंबर के दिन इसे केन्द्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की तर्ज पर ब्रिटिश राज के समय बनाया गया पहला उच्च शिक्षण संस्थान था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *