मस्जिद की नींव रखने के लिए न मुझे बुलाया जाएगा और न ही मैं जाऊंगा: CM योगी आदित्यनाथ

New Delhi: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण (Ram Mandir Ayodhya) के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बुधवार को भूमि पूजन किया। इस कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने राम मंदिर के साथ-साथ विभिन्न मुद्दों पर खुलकर बात की।

मुख्यमंत्री योगी (CM Yogi Adityanath) ने मस्जिद (Masjid Shilanyas) की नींव रखे जाने पर भी स्पष्ट जवाब दिया। सीएम योगी ने कहा कि मुझे न तो इस कार्यक्रम में कोई बुलाएगा और मैं जाऊंगा भी नहीं। उन्होंने कहा कि अगर वह मस्जिद गए तो कई लोगों की दुकान बंद हो जाएगी।

दरअसल, एक न्‍यूज चैनल से बातचीत में योगी (CM Yogi Adityanath) से सवाल किया गया कि राम मंदिर के भूमि पूजन पर आपने सभी धर्मों के लोगों को बुलाया, वे कार्यक्रम में शामिल भी हुए। ऐसे में कहा जा रहा है कि आने वाले दिनों में जब मस्जिद की नींव रखी जाएगी तो सीएम योगी वहां नहीं जाएंगे।

इस पर योगी (CM Yogi Adityanath) ने कहा, ‘मेरा जो भी काम है, वह मैं करूंगा। बाकी मुझे न तो वहां बुलाया जाएगा और मैं वहां जाऊंगा भी नहीं।’ योगी ने कहा कि अगर मैं वहां चला गया तो कई लोगों की तो दुकानें की बंद हो जाएंगी।

‘मेरे लिए उमंग और उत्साह का दिन’

योगी ने कहा, ‘यह मेरे लिए भावुक, उत्साह-उमंग, गौरव का भी क्षण था। उत्साह-उमंग का इसीलिए क्योंकि उत्तर प्रदेश सरकार बाहर की सुरक्षा और अन्य व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी यूपी सरकार के पास है। मैंने पिछले 3 वर्षों में इस कार्य को बहुत नजदीक से महसूस किया है।’

योगी ने कहा, ‘मुझे पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो दायित्व दिया है, उस काम को करने के लिए मैं खुद को सौभाग्यशाली मानता हूं। मेरी गुरू परंपरा ने यह संकल्प दशकों पूर्व देखा था, यह आज साकार हुआ है, उन दिव्य आत्माओं को इससे असीम शांति मिल रही होगी। मंच पर जितने भी महानुभाव थे, ये सभी राम जन्मभूमि के साथ बहुत आत्मीय रूप से जुड़े रहे हैं। स्वाभाविक रूप से यह दिन हमारे लिए उमंग-उत्साह का दिन भी है।’

प्रियंका के ‘राम सबके’पर बोले योगी

उधर, योगी आदित्यनाथ ने प्रियंका गांधी के बयान कि ‘राम सबके हैं’ पर भी जवाब दिया। योगी ने कहा कि राम सभी के हैं, हम पहले से ही यह बात कहते आए हैं। पहले ही यह सदबुद्धि सभी को आ जानी चाहिए थी जब कुछ लोगों के पूर्वजों ने रामलला की मूर्तियों को हटाने की कुत्सित चेष्टा की थी। आखिर कौन लोग थे वो, किसके पूर्वज थे जो अयोध्या में रामलला का मंदिर नहीं चाहते थे। कौन लोग थे वे, जो गर्भगृह जहां आज शिलान्यास हुआ है, 1989 में वहां शिलान्यास न करके वहां से 200 मीटर दूर कह रहे थे कि यहां शिलान्यास करेंगे। कह रहे थे कि विवादित परिसर में कुछ नहीं होना है।’

‘राम के नाम पर बांटने की कोशिश गलत’

कोरोना वायरस की वजह से प्रोटोकॉल को देखते हुए सभी को नहीं बुलाया जा सके। बाकी इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण भी किया गया। राम सबके हैं, राम के काम में सभी को सहभागी भी बनना चाहिए। राम के नाम पर बांटने का कुत्सित प्रयास नहीं करना चाहिए। हमने राम के नाम पर राजनीति नहीं की है। हम जिस निष्ठा के साथ 1984 में जुड़े थे, उसी निष्ठा से 2020 में भी जुड़े हुए हैं।’