Rajasthan Crisis: वसुंधरा राजे ने तोड़ी चुप्पी, कहा- कांग्रेस के कलह की कीमत जनता चुका रही

New Delhi: राजस्थान में जारी सियासी संकट (Rajasthan Political Crisis) के बीच राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य के लोग इस कलह की कीमत चुका रहे हैं।’

कांग्रेस (Congress) द्वारा बीजेपी (BJP) नेताओं पर विधायकों की खरीद फरोख्त के लगाए जा रहे आरोपों पर वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने कहा कि कांग्रेस अपने घर की लड़ाई में बीजेपी और बीजेपी नेतृत्व पर दोष लगाने की कोशिश कर रही है।

वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस के आंतरिक कलह का नुकसान आज राजस्थान की जनता हो उठाना पड़ रहा है। ऐसे समय में जब हमारे प्रदेश में कोरोना से 500 से ज्यादा मौते हो चुकी हैं और करीब 28 हजार लोग कोरोना पॉजिटिव हैं।

वसुंधरा राजे ने अपने ट्वीट में आगे कहा है कि ऐसे समय में जब टिड्डी हमारे किसानों के खेतों पर लगातार हमले कर रही है, ऐसे समय में जब हमारी महिलाओं के खिलाफ अपराध ने सीमाएं लांघ दी हैं, ऐसे समय में जब प्रदेशभर में बिजली समस्या चरम पर है और ये तो केवल मैं कुछ ही समस्याएं बता रही हूं। ऐसे समय में कांग्रेस, बीजेपी और बीजेपी नेतृत्व पर दोष लगाने का प्रयास कर रही है। वसुंधरा ने आगे कहा कि सरकार के लिए सिर्फ और सिर्फ जनता हित सर्वोपरि होना चाहिए, कभी तो जनता के बारे में सोचिए।

पात्रा ने पूछा सवाल – फोन टैपिंग हो रही है क्या ?

इससे पहले दिल्ली में शनिवार को ऑडियो टैप के मामले में बीजेपी नेता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर कई सवाल दागे। पात्रा ने राजस्थान सरकार सीना तान कर कह रही है कि ये ऑडियो टेप पूरी तरह सही है। ऐसे में उन्हें यह बताना चाहिए कि क्या राजस्थान में राजनैतिक पार्टियों के लोगों के ऑडियो टैप किए जा रहे है ?। पात्रा ने ऑडियो टैपिंग पर घेरते हुए उसके स्टण्डैड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (एसओपी ) को फॉलो करने पर भी मुख्यमंत्री गहलोत से सवाल किए।

पवन खेड़ा ने भी पूछे सवाल

संबित पात्रा की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद पलटवार करते हुए पवन खेड़ा ने भी वर्चुअल पीसी के जरिए पत्रकारों को संबोधित किया। पवन खेड़ा ने फोन टैपिंग के सवाल पर कहा कि बीजेपी की ओर से गुजरात में फोन टैप करने की बात पहले ही आ चुकी है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार तो बीजेपी को हैबिच्युअल टैपर्स भी करार कर चुके हैं। वहीं राजस्थान के पूर्व कांग्रेस विधायक विश्वेन्द्र सिंह खुद बीजेपी पर फोन टैप का आरोप लगा चुके हैं। ऐसे में बीजेपी को पहले इन सवालों के जवाब देने चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *