जिलाधकारी ने खडडा क्षेत्र में हो रहे गंडक नदी के कटान स्थल का किया निरीक्षण

District Magistrate Kushinagar

कुशीनगर, 10 अगस्त (ममता तिवारी)। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में जिलाधकारी एस. राजलिंगम दोपहर बाद खडडा क्षेत्र के महादेवा, सालिकपुर ग्राम पहुंचकर गंडक नदी के कटान स्थल का निरीक्षण किया और सम्बन्धित को आदेशित किया कि गांव के दक्षिणी हिस्सा में बसे पांच से छह दर्जन परिवारों को विस्थापित कर तत्काल उनको गांव के प्राथमिक विद्यालय में ठहराया जाय। उनको दोनों वक्त का भोजन मुहैया कराएं।

जिलाधिकारी से ग्रामीण महिलाओं ने कटान रोकने हेतु ठोस कदम उठाने की मांग करते हुए कहा कि तार की जालियों में पत्थर रखकर ठोकर बनाए जाने से नदी की धारा से कटान से मुक्ति मिलेगी।ग्रामवासियों ने जिलाधिकारी से बताया कि गाइड बांध महादेवा की तरफ जो बनी है। उसे 500 मीटर और लंबाई बढ़ाई जानी थी।

लेकिन आज तक रेल सहित मानव संसाधन तथा उत्तर प्रदेश सरकार, बाढ़ खंड तथा बिहार सरकार ने अपने हिस्से का अंशदान नहीं दिया। जिससे लंबाई नहीं बढ़ने के कारण हर साल ऐसी कटान की स्थिति बनती जा रही है। ग्रामीणों ने बताया कि सेवरही के पास एपी बांध, नरवाजोत तथा अमवा खास की बगल से कटान रोकने के लिए डोजियर मशीन लगाकर नदी के धारा का रुख मोड़ दिया था। उसी प्रकार की मशीन मंगवाकर महादेवा गांव को बचाने के लिए उपाय किया जाए‌।

जिलाधिकारी ने बाढ़ खण्ड/सिंचाई विभाग के अभियंताओं को कटान रोकने हेतु प्रभावी कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देशित किया साथ ही अगर धन की कमी है तो बाढ़ खंड के अधिकारी अवगत करावे धन की व्यवस्था शासन स्तर से उपलब्ध कराई जाएगी। इस अवसर पर विधायक खड्डा जटाशंकर त्रिपाठी, उप जिलाधिकारी खड्डा अरविंद कुमार, नायब तहसीलदार रवि कुमार यादव, बाढ़ खंड के अभियंता महेश कुमार, सहायक अभियंता मनोरंजन कुमार, अभियंता रवि कनौजिया, भगवान, नवीन शुक्ला, प्रधान पति नथुनी कुशवाहा, पूर्व प्रधान जितेंद्र निषाद, प्रेमशंकर साहनी, इंद्रजीत साहनी, छबीलाल आदि ग्रामीण उपस्थित रहे।