Electricity crisis in india: चीन में बिजली संकट से गाजियाबाद में महंगे हुए इलेक्ट्रॉनिक्स सामान, जानें दिवाली से पहले बाजार का हाल

गाजियाबाद
चीन में चल रहे बिजली संकट का असर भारतीय बाजारों पर दिखना शुरू हो गया है। पार्ट्स, इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम, गैजेट्स और खिलौनों के रेट 20 से 40 प्रतिशत तक महंगे हो गए हैं। कारोबारियों का कहना है कि चीन से आने वाले माल में अब एक महीने तक की देरी हो रही है। ऑर्डर पर रेट में भी 10 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इसकी वजह से बाजार में माल 20 से लेकर 40 फीसदी तक की महंगा बिक रहा है।

एक्सपर्ट कहते हैं कि यह असर माल की सप्लाई की वजह से नहीं, बल्कि पैनिक से ज्यादा पड़ा है। जिले में करीब 24 हजार इंडस्ट्रीज हैं, जिन पर इसका असर पड़ रहा है। गाजियाबाद इंडस्ट्री फेडरेशन के महासचिव अनिल गुप्ता का कहना है कि फिलहाल चीन में बिजली संकट का असर बहुत अधिक नहीं हैं। हालांकि, इस बारे सरकार को जल्द वैकल्पिक व्यवस्था करनी होगी।

मशीनों के पार्ट्स मिल रहे महंगे
गाजियाबाद इंडस्ट्रियल असोसिएशन के अध्यक्ष अरुण शर्मा कहते हैं कि इंडस्ट्रीज में चीन के बिजली संकट का कोई विशेष असर नहीं हैं। हां, यह जरूर है कि चीन से मंगाई गई मशीनों के पार्ट्स महंगे मिल रहे हैं। चूंकि वहां की कई फैक्ट्रियां बंद हो चुकी हैं। वहीं, दवा जैसे अन्य सामान का कच्चा माल 10 फीसदी तक महंगा मिल रहा है, जिससे प्रॉडक्शन कॉस्ट बढ़ रही है।

मोबाइल फोन के पार्ट्स में 20% की उछाल
कारोबारी दीपक कुमार का कहना है कि 3 महीने पहले तक चीन से आने वाले कंप्यूटर, लैपटॉप और उससे संबंधित पार्ट्स आसानी से एक ही ऑर्डर पर मिल जाते थे। अब मिलने में दिक्कत हो रही है। उन्होंने बताया कि जो लैपटॉप पहले 30 से 35 हजार रुपये में आ जाता था, वह अब 5 हजार रुपये महंगा मिल रहा है।

यूपीएस की बैट्री 600 से 800 की, लैपटॉप की स्क्रीन 3500 से बढ़कर 5000 रुपये की, मदर बोर्ड 6000 से बढ़कर 7500 रुपये तक हो गया है। ऐसे ही मोबाइल फोन के पार्ट्स में 20 फीसदी तक वृद्धि हुई है। महंगा सामान मिलता है तो ट्रेडर्स को महंगा ही बेचना पड़ता है। इसके कारण कारोबार में गिरावट आई है।

अब खिलौने भी हो गए महंगे
नवयुग मार्केट में इलेक्ट्रॉनिक्स का कारोबार करने वाले विनोद कुमार नवल कहते हैं कि पहले लोग नवरात्र पर इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम गीजर, वॉशिंग मशीन और अन्य सामान की बुकिंग करा लेते थे। अब इन सामानों में 20 से 35 फीसदी तक की महंगाई के कारण सीजन पिट रहा है।

चाइनीज डोमेस्टिंग आइटम्स के पार्ट्स तक नहीं मिल रहे हैं। इसके कारण कस्टमर परेशान हैं और दुकानदार को भी नुकसान हो रहा है। एक चाइनीज कार जो 200 से 500 रुपये की अच्छी मिलती थी, वह भी 10 से 15 फीसदी महंगी मिल रही है। दीपावली पर चाइनीज फैंसी इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम अभी तक नहीं आए हैं, जो अक्सर लोग गिफ्ट देने या घर में सजाने में प्रयोग करते हैं।