राममंदिर बयान को लेकर शरद पवार पर भड़की उमा भारती, कहा- PM मोदी नहीं, भगवान राम का किया अपमान

New Delhi: मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने अयोध्‍या राम मंदिर (Ayodhya Ram Mandir) मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई है। यही नहीं, उन्‍होंने पवार को ‘राम द्रोही’ भी करार दिया है।

उमा (Uma Bharti) ने कहा, पवार का यह बयान राम द्रोही है ये बयान पीएम मोदी के खिलाफ नहीं, भगवान राम के खिलाफ है। उन्‍होंने सवालिया लहजे में कहा, पीएम अगर 2 घंटे वहां पहुंच जाएंगे तो कौन सी अर्थव्यवस्था बिगड़ जाएगी।

पूर्व सीएम उमा भारती (Uma Bharti) सावन के तीसरे सोमवार को आज भोपाल के नजदीक सीहोर स्थित प्राचीन गणेश मंदिर पहुचीं और विधि विधान से पूजा-अर्चना की। इस दौरान उन्होंने मीडिया से चर्चा करते हुए पवार के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि एनसीपी प्रमुख बयान पीएम मोदी के खिलाफ नहीं, भगवान राम के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि अगर 2 घंटे पीएम वहां पहुंच जाएंगे तो कौन सी अर्थव्यवस्था बिगड़ जाएगी। उमा ने कहा, ‘पीएम वह व्यक्ति हैं जो 4 घंटे से ज्यादा नहीं सोते, 24 घंटे काम करते हैं। आज तक कोई छुट्टी नहीं ली। प्‍लेन में भी वह काम करते हुए जाएंगे। मुझे उनका स्वभाव मालूम है। फाइल वर्क करते हुए जाएंगे और आते हुए भी फाइल वर्क करेंगे अगर भगवान राम को 2 घंटे दे देंगे तो मुझे लगता है शरद पवार का यह बयान राम द्रोही है यह भगवान राम के खिलाफ है।’

क्‍या कहा था शरद पवार ने

अयोध्या में राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए प्रस्तावित भूमि पूजन के कार्यक्रम को लेकर एनसीपी (NCP) प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि मंदिर बनेगा उसी दिन कोरोना जाएगा। इसलिए शायद उन्होंने यह कार्यक्रम रखा होगा। हमारे लिए फिलहाल कोरोना वायरस (Coronavirus) सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।

शरद पवार ने कहा था कि किस समय कौन सी बात को महत्व देना है इसके बारे सभी को हमेशा विचार करना चाहिए। हमारे लिए इस समय प्राथमिकता यह है कि कोरोना से प्रभावित लोगों को कैसे ठीक करना है। कुछ लोगों को ऐसा लगता है कि मंदिर बनेगा उसी दिन कोरोना जाएगा। इसलिए शायद उन्होंने यह कार्यक्रम रखा होगा।

गौरतलब है कि शनिवार को श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखने के लिए अगले महीने की दो तारीखों का सुझाव दिया था। इसके बाद शरगद पवार की उक्त टिप्पणी आई है। ट्रस्ट ने तीन या पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शिलान्यास करने के लिए आमंत्रित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *