Urmila-Dahiya

समाजसेवी उर्मिला दहिया का नि’धन बड़ी क्षति : सईद अहमद

नई दिल्ली, (वेबवार्ता)। हरियाणा के विख्यात समाजसेवी सत्येन्द्र दहिया की पत्नी का आसमयिक नि’धन समाजसेवा क्षेत्र की बड़ी क्षति है। कोई भी समाजसेवक बिना पत्नी के सहयोग के समर्पित समाजसेवा को अंजाम नहीं दे सकता। उक्त विचार इक एहसास समाजसेवी संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष सईद अहमद ने व्यक्त किये। वे समाजसेवी व इक एहसास के राष्ट्रीय सचिव सत्येन्द्र दहिया की पत्नी के आकस्मिक नि’धन पर आयोजित शोक सभा व्यक्त किये।

उन्होंने कहा कि किसी भी क्षेत्र में अर्धांगिनी के सहयोग के बिना सफलता मुमकिन नहीं है। खासकर समाजसेवा के क्षेत्र में। कभी कभी तो पत्नी ही प्रेरणा श्रोत होती है। उन्होंने शोकसभा में उपस्थित सभी साथियों से चर्चा करते हुए कहा कि इस युग में जब लोग अपने परिवार के लिए समय नहीं निकल सकते, तब समाज की चिंता करना आसान काम नहीं है।

सत्येन्द्र दहिया सिर्फ बहादुरगढ़ ही नहीं बल्कि पूरे हरियाणा प्रदेश में विभिन्न कार्यक्रमों से लोंगो को जागरूक करते रहते है। उनके द्वारा समाज को दिए गए समय में परोक्ष-अपरोक्ष पत्नी का सहयोग जरूर रहा है। इसलिए सत्येन्द्र दहिया की पत्नी श्रीमती उर्मिला दहिया भी समाजसेविका थी। उनके निधन से समाज को काफी हानि हुई है। जिसकी क्षतिपूर्ति मुमकिन नहीं है।

शोक सभा में श्रीमती उर्मिला दहिया के लिए दो मिनट का मौन रखा गया। तथा ईश्वर से उनको स्वर्ग में उच्च स्थान प्राप्ति की कामना की गई। तथा समाजसेवी सत्येन्द्र दहिया और उनके परिवार को दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान की गई। शोक सभा में लतीफ़ अहमद खान, शिव ओम रस्तोगी, अनीता आहूजा, अमिताभ प्रसाद सहित राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *