राजस्थान के सियासी ड्रामे में नया मोड़, SC से स्पीकर सीपी जोशी ने वापस ली याचिका

New Delhi: Rajasthan Political Crisis: राजस्थान के घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं और अब एक नया सियासी मोड़ आ गया है। अभीतक सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से इस मामले पर तुरंत फैसला देने की पैरवी कर रहे स्पीकर सीपी जोशी (Speaker CP Joshi )ने अब अपनी अर्जी ही वापस ले ली है। इस बीच राज्य का सियासी पारा काफी गरम है।

वहीं, सचिन पायलट (Sachin Pilot) के दांव से परेशान सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) अब बीएसपी चीफ मायावती के दांव के कारण मुश्किल में घिरते दिख रहे हैं।

जोशी के वकील सिब्बल बोले- हाई कोर्ट के आदेश को दे सकते हैं चुनौती

इस बीच, सुप्रीम कोर्ट में स्पीकर सीपी जोशी के वकील ने बताया है कि वह अपनी याचिका वापस लेंगे। शीर्ष अदालत ने स्पीकर जोशी को याचिका वापस लेने की इजाजत दे दी है। सीपी जोशी के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी जा सकती है।

स्पीकर के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि 24 जुलाई को हाइ कोर्ट ने विस्तृत आदेश पास किया है। उस लिहाज से हमे अपनी कानूनी रणनीति को देखना है। हम हाई कोर्ट के उस आदेश को भी चुनौती देने पर विचार कर रहे है। हाईकोर्ट ने अगले आदेश तक यथास्थिति बनाये रखने का आदेश दिया था। सिब्बल ने कहा कि दुख की बात है कि हाइ कोर्ट, इस तरह के मामलों में सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय व्यवस्था का पालन नहीं कर रहा है।

याचिका वापसी का होगा ये असर

याचिका वापस लेने का असर ये हुआ कि फिलहाल HC का यथास्थिति का आदेश प्रभावी होगा। पायलट और उनके MLAs के खिलाफ अयोग्यता के मामले में स्पीकर तबतक फैसला नहीं ले पाएंगे। जबतक हाई कोर्ट अपने आदेश में बदलाव नहीं करता या अपना आखरी फैसला नहीं सुनता।

याचिका पर स्पीकर ने इसलिए यू-टर्न

स्पीकर सीपी जोशी अपनी याचिका पर शीर्ष अदालत में यू-टर्न ले लिया है। अदालत ने भी उन्हें याचिका वापस लेने की इजाजत दे दी है। कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि स्पीकर की सुप्रीम कोर्ट में जल्दबाजी में दाखिल की गई याचिका के कारण राजस्थान हाई कोर्ट को 1992 के खीटो होलहान जजमेंट का सहारा लेना पड़ा।

सूत्र ने बताया कि होलोहान जजमेंट एक नजीर बन गई है और हाई कोर्ट ने इसी को ध्यान में रखते हुए स्पीकर को 19 बागी विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करने से रोक दिया। लेकिन यह फैसला उस जजमेंट के हिसाब से नहीं है।

राजस्थान हाई कोर्ट ने दिया था बड़ा फैसला

अयोग्यता नोटिस मामले में सचिन पायलट खेमे की ओर से राजस्थान हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी, जिसमें हाईकोर्ट की ओर से दखल देने के बाद स्पीकर सीपी जोशी ने सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी लगाई थी। वहीं हाईकोर्ट ने शुक्रवार को अपने निर्णय में फैसले को सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई तक यथास्थिति रखने की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *