लुधियाना में व्यापारियों का रविवार लॉकडाउन के विरोध में जोरदार प्रदर्शन : सुनील मेहर

Sunil Meher

लुधियाना, 16 जून (राजकुमार शर्मा)। पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल ने पंजाब के आर्थिक रूप से पिछड़े पंजाब के व्यापार और उद्योग को डूबते हुए पंजाब सरकार की व्यापार विरोधी नीतियों के चलते और पंजाब सरकार की ओर से कोई राहत पैकेज व्यापारियों को ना देने से उल्टे बिजली के बिल और नगर निगम के टैक्स बहुत तेजी से भारी-भरकम टैक्स देने से पंजाब का व्यापार और उद्योग जो करो ना 2020 में भी भारी आर्थिक नुकसान में जा चुका है।

2021 में एक लाख करोड रूपये का नुकसान पंजाब के व्यापार और उद्योग की इंडस्ट्री को पंजाब सरकार की व्यापार विरोधी नीतियों और व्यापारियों को कोई राहत पैकेज ना देने से होगा। इस व्यापार और उद्योग को सबसे बड़ा नुकसान सरकार का इन नीतियों का हुआ। कोरोना को लेकर जहां सारी इंडस्ट्री खुली है जरूरी है यहां और जरूरी दुकानें भी खुली गई हैं और जहां गैर जरूरी दुकाने का ना खुला होना जिससे कच्चा माल इंडस्ट्री को सप्लाई करना और इंडस्ट्री से फर्निशिंग गुड्स लेना पूरे हिंदुस्तान में कारोबार ठप हो गया है किसकी सरकार ने कोई परवाह भी नहीं की।

कल पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने व्यापारियों की मांग को मानते हुए पंजाब भर में यह हुक्म जारी कर दिये है कि पंजाब में दुकानें रात 7:30 बजे तक खोली जाए और इसके बाद रात 7:30 बजे से लेकर सुबह 5:00 बजे तक कोरोना कर्फ्यू लगा रहेगा। रविवार को लॉकडाउन का अधिकार डिप्टी कमिश्नर को दिया गया है। पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल लुधियाना प्रशासन का बहुत-बहुत धन्यवाद करता है कि उन्होंने रात 7:30 बजे तक दुकानें खोलने के हुक्म जारी किए हैं। पर वहीं दूसरी तरफ जालंधर शहर में रविवार का लॉकडाउन खोल दिया गया है।

लुधियाना में रविवार का लॉकडाउन और बाकी शहरों में भी रविवार का लॉकडाउन नहीं खोला है। पंजाब की 100 होलसेल मार्केटो में से 50 होलसेल मार्केट लुधियाना में ही है। लुधियाना की सॉरी होलसेल मार्केट रविवार को ही खुलती है यहां पंजाब के पूरे 23 जिलों का ग्राहक यहां आता है। केवल रविवार को ही पंजाब भारत से ग्राहक होलसेल का सामान लेने यहां आता है पर काफी समय से 2020 और 2021 में लॉकडॉउन की वजह से पंजाब आर्थिक तंगी के कारण और भारी नुकसान के कारण पिछड़ चुका है जिसके कारण पंजाब में व्यापार उद्योग का पलायन भी शुरू हो चुका है।

यहां से काफी भारी संख्या में व्यापार और उद्योग बाहर जा चुके हैं। दुकानों पर काम करने वाले लड़कों की छटनी भी शुरू हो चुकी है। यहां पर 50 प्रतिशत व्यापार और उद्योग बंद हो चुका है। आज दस लाख लेबर हजारों फैक्ट्रियों के अंदर काम कर सकती हैं। सरकार को वहां कोरोना नहीं दिखता है पर 5000 दुकानें जरूरी और गैर जरूरी बंद करके सरकार कोरोना की लड़ाई जितना चाहती है। यहां कोरोना की लड़ाई जीतते जीतते व्यापारिक आर्थिक तौर पर पिछड़ गए हैं और साथी ही व्यापारियों की कमर टूट गई है। इस महंगाई के दौर में व्यापारियों को अपने परिवार का पालन पोषण और दुकानों के खर्चे निकालना भी करना मुश्किल हो गया है।

जहां प्रशासन ने एक अच्छा कदम उठाया है के यहां रात 7:30 बजे तक दुकानें खोलने के हुक्म दिए हैं यहां रविवार लॉकडॉउन खोलने का हुकम ना जारी कर कर वहीं दूसरी तरफ जालंधर को छोड़कर पंजाब के कई शहरों में रविवार का लॉकडाउन नहीं खत्म किया है आज पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को चेतावनी दी थी कि अगर 3 दिनों के अंदर रविवार का लॉकडॉउन ना खोला गया तो पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल पंजाब भर में प्रदर्शन शुरू करेगा।

आज प्रदर्शन की शुरुआत पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल ने कैप्टन सरकार से मांग करते हुए की है कि रविवार का लॉकडाउन जल्द खोला जाए क्योंकि लुधियाना की होजरी टेक्सटाइल साइकिल पार्ट्स, मशीनरी इसके साथ, भी स्माल इंडस्ट्रीज और बड़ी इंडस्ट्री के ग्राहक भी रविवार को सामान लेने के लिए बाहर से आते हैं। इसके साथ ही लुधियाना की दुकाने, ढावे, रेस्टोरेंट और कई उद्योग भी इसके साथ चलते हैं। आज भारी-भरकम महंगाई के दौर में यहां सरकार व्यापारियों को कोई राहत पैकेज भी नहीं दे रही।

यहां व्यापारी अपने बलबूते पर काम चलाना चाहते हैं और साथ ही प्रदर्शनकारियों ने जोरदार मांग की है कि रविवार का लॉकडॉउन जल्द खोला जाए ताकि पंजाब का व्यापार लाइन पर आ सके। इस समय पंजाब का व्यापार अपने आखिरी सांस और वेंटिलेटर पर लगा हुआ है। इस को ऑक्सीजन देने के लिए जरूरी है कि रविवार का लॉकडाउन खोल दिया जाए। अगर अभी सरकार लुधियाना के चौड़ा बाजार में किए गए प्रदर्शन को समझते हुए व्यापारियों को सहयोग के लिए नहीं आती तो यहां के सांसद और विधायक व्यापारियों के हक में आवाज उठाने को तैयार नहीं है तो 2022 के चुनाव जिसमें पंजाब में 55 प्रतिशत व्यापारी पंजाब के जिनके हाथ इनकी चाबी आने वाले चुनाव की बागडोर है आने वाले चुनाव में जीत का सेहरा व्यापारियों के ऊपर ही है। अगर व्यापारियों के साथ कोई सहयोग नहीं देगा तो आने वाले चुनावों में भी व्यापारिक उसका साथ नहीं देंगे।

पंजाब प्रदेश व्यापार मंड़ल कैप्टन अमरिंदर सिंह और जिला प्रशासन से मांग करता है कि जल्द ही रविवार का लॉकडॉउन को खोला जाए। जिसमें लुधियाना की 50 होलसेल मार्केट जिसमें गांधी नगर, अकालगढ़ मार्केट, चौड़ा बाजार, गुड़ मंडी घुमार मंडी, माडल टाउन, जवाहर मार्केट, एसी मार्केट, कपड़े, दवाइयों आदि जो रविवार को ही चलती हैं। उनको जल्द ही खोलने की इजाजत दी जाए ताकि पंजाब का व्यापार अपनी पटरी पर आ सके और पंजाब का व्यापार जो 2 साल से पिछड़ रहा है उसको व्यापारी समेटने के लिए कामयाब हो सके और आर्थिक में पिछड़ रहे व्यापार को पटरी पर लाया जा सके। इस अवसर पर पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के महासचिव सुनील मेहरा, रोहित कपूर, इंद्रजीत सचदेवा, अश्विनी महाजन, सुलेश गुप्ता, राजीव अरोड़ा, रणदीप बत्रा, संदीप जैन आदि उपस्थित थे।