लैब टेक्नीशन की अपहरण के बाद हत्या, यूपी में ‘नए गुंडाराज’ पर जमकर बरसीं प्रियंका-मायावती

New Delhi: Priyanka Gandhi Mayawati Slams Yogi Govt: उत्तर प्रदेश के कानपुर में लैब टेक्नीशन संजीत यादव की अपहरण के बाद ह’त्या को लेकर योगी सरकार एक बार फिर विरोधियों के निशाने पर है। शुक्रवार को यादव की ह’त्या की पुष्टि होने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने यूपी सरकार पर जमकर हमला बोला है।

प्रियंका और मायावती (Priyanka Gandhi Mayawati Slams Yogi Govt) ने प्रदेश में जंगलराज होने का आरोप लगाया और योगी सरकार को प्रदेश में बढ़ रहे अपराध के खिलाफ तुरंत ऐक्शन में आने की सलाह दी।

प्रियंका ने बीते दिनों की आपराधिक घटनाओं का हवाला देते हुए योगी सरकार को घेरा। उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था दम तोड़ चुकी है और अब आम लोगों की जा’न लेकर इसकी मुनादी की जा रही है। घर हो, सड़क हो या ऑफिस हो, कोई भी खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करता। प्रियंका ने कहा कि पत्रकार विक्रम जोशी के बाद अब कानपुर में अपहृत संजीत यादव की ह’त्या कर दी गई। पुलिस ने किडनैपर्स को पैसे भी दिलवाए और उनकी ह’त्या भी कर दी गई।

‘यूपी में नया गुंडाराज आया है’

प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए प्रियंका ने कहा, ‘एक नया गुंडाराज आया है। इस जंगलराज में कानून-व्यवस्था गुंडो के सामने सरेंडर कर चुकी है।’ वहीं मायावती ने भी उत्तर प्रदेश में जंगलराज होने की बात कही।

माया ने कहा, ‘यूपी में जारी जंगलराज के दौरान एक और घटना में कानपुर में अपहरणकर्ताओं ने संजीत यादव की ह’त्या करके शव को नदी में फेंक दिया। यह अति-दुःखद और निन्दनीय है।’ उन्होंने मांग रखी कि प्रदेश सरकार खासकर अपराध-नियंत्रण और कानून-व्यव्स्था के मामले में तुरन्त हरकत में आए।

बता दें कि बीते 22 जून को लैब टेक्नीशन संजीत यादव का उसके दोस्तों ने ही अपहरण किया था। शुक्रवार को खुलासा हुआ कि उन्होंने अपहरण के चौथे दिन ही संजीत की ह’त्या कर दी थी।

मामले में संजीत के दो दोस्तों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों ने बताया कि संजीत का शव उन्होंने हत्या के बाद पांडू नदी में फेंक दिया था। शव की तलाश की जा रही है।

30 लाख की फिरौती

गुरुवार रात पुलिस ने संजीत के परिजनों को ह’त्या की जानकारी दी तो परिवार में कोहराम मच गया। बर्रा थाना क्षेत्र के बर्रा-5 में रहने वाले लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण के बाद 29 जून को उनके परिजन के पास फिरौती के लिए फोन आया था।

अपहरणकर्ताओं ने 30 लाख रुपये फिरौती की मांग की थी। परिजन ने इसकी सूचना पुलिस को दी, जिस नंबर से अपहरणकर्ताओं ने फिरौती की मांग थी उसे पुलिस ने सर्विलांस पर लगाया था। इसके बाद भी संजीत का कहीं कुछ पता नहीं चला था।

परिजन के पुलिस पर आरोप

परिजन का आरोप था कि पुलिस ने किसी तरह की मदद नहीं की। उनका कहना था कि हमने अपना घर और जेवरात बेचकर और बेटी की शादी के लिए जमा की गई धनराशि को इकट्ठा कर 30 लाख रुपये जुटाए थे। 13 जुलाई को पुलिस के साथ अपहरणकर्ताओ को 30 लाख रुपये देने के लिए गए थे।

अपहरणकर्ता पुलिस के सामने से 30 लाख रुपये लेकर चले गए थे। 30 लाख जाने के बाद भी बेटा नहीं मिला तो, पुलिस पर परिजनों ने गंभीर आरोप लगाए थे। इस घटना के बाद एसएसपी ने बर्रा इंस्पेक्टर रणजीतरॉय को निलंबित कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *