आंध्र में कौन तोड़ रहा है मंदिरों की मूर्तियां? जगन रेड्डी और नायडू आमने-सामने, जानें पूरा विवाद

Webvarta Desk: Politics on Andhra Pradesh Temples: आंध्र प्रदेश में YS जगन मोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) की सरकार में पिछले कुछ महीनों से हिंदू देवी-देवताओं की मूर्ति और मंदिरों को निशाना बनाया जा रहा है। यही नहीं लोगों को ईसाई बनाने का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है। TDP प्रमुख और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) ने मंगलवार को यह आरोप लगाया है।

बता दें कि आंध्र प्रदेश में यह पहली बार नहीं हो रहा है। कहा जाता है कि जगन (Jagan Mohan Reddy) के पिता जब थे तब भी ऐसा ही हुआ था। जगन मोहन रेड्डी के पिता YS राजशेखरेड्डी पर भी ईसाई धर्मांतरण को बढ़ावा देने का आरोप लगा था।

ईसाई धर्मांतरण को बढ़ावा दे रहे रेड्डी: चंद्रबाबू नायडू

TDP प्रमुख और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) ने मंगलवार को मंगलीगिरी में पार्टी की एक कार्यकारी समिति को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री YS जगन मोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) राज्य में ईसाई धर्म के धर्मांतरण को बढ़ावा दे रहे हैं। यह आरोप मुख्य विपक्षी दल की ओर से ऐसे समय में आया है, जब आंध्र प्रदेश में कई ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं। जिनमें हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों को नुकसान पहुंचाया गया है।

‘क्या हिंदुओं की भावनाएं रखने वाले लोग नहीं’

नायडू ने कहा कि यहां केवल क्या ईसाइयों की ही धार्मिक भावनाएं रखने वाले लोग हैं, क्या हिंदुओं और मुसलमानों में समान भावनाएं रखने वाले नहीं हैं? उन्होंने हाल ही में विजयनगरम स्थित रामतीरधाम मंदिर में क्षतिग्रस्त हुईं मूर्तियों की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग की।

रेड्डी ने ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया

विपक्ष जहां इस मुद्दे पर YSRCP सरकार पर हमला बोल रहा है तो वहीं सरकार ने विपक्ष पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया है। जगन ने नायडू के बयान को नए युग का अपराध कहा है। उन्होंने कहा, ‘नायडू को लगता है कि इस तरह के हथकंडे अपनाकर उनको लाभ होगा।’

रातोंरात 40 मंदिरों को ध्वस्त किया था नायडू ने: अंबाती

वहीं YSRC विधायक अंबाती रामबाबू ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू अपने वोट बैंक का दायरा बढ़ाने के लिए धर्म का इस्तेमाल कर रहे हैं। वह हिंदू धर्म के मुक्तिरक्षक की तरह व्यवहार कर रहा हैं। लेकिन हकीकत में उन्हें अपनी जाति के अलावा किसी भी धर्म के प्रति कोई सम्मान नहीं है। नायडू ने अपने शासन के दौरान रातोंरात 40 मंदिरों को ध्वस्त करा दिया था।

19 महीनों में हिंदू मंदिरों को हानि पहुंचाने की 127 घटनाएं हुईं

हाल ही में रामतीरधाम मंदिर को हानि पहुंचाई गई। आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने इसकी निंदा भी की थी। नायडू ने कहा था कि जगन मोहन रेड्डी ने हिंदुओं के साथ विश्वासघात किया है। रेड्डी के शासनकाल में पिछले 19 महीनों में हिंदू मंदिरों को हानि पहुंचाने की 127 घटनाएं सामने आ चुकी हैं। लेकिन अभी तक एक भी दोषी को सजा नहीं हुई है।

2021 में भगवान सुब्रमण्येश्वर की प्रतिमा खंडित की गई

बता दें कि इस साल के पहले सप्ताह में शुक्रवार को सुबह भगवान सुब्रमण्येश्वर की प्रतिमा खंडित की गई थी। यह घटना पूर्वी गोदावरी जिले के राजमहेंद्रवरम शहर के गणेश मंदिर की है। दारसी शहर में 22 दिसंबर को भगवान कृष्ण मंदिर परिसर में जानवरों का मांस मिला था। सितंबर में चित्तूर जिले में भगवान शिव मंदिर में नंदी की मूर्ति टूटी मिली थी। इसी महीने पूर्वी गोदावरी जिले में प्राचीन अंटार्वदी लक्ष्मी नरसिम्हा मंदिर परिसर में एक सदी पुराना रथ संदिग्ध परिस्थितियों में जला हुआ पाया गया था।