Mumbai Vaccination News: गर्भवती महिलाओं के वैक्सीनेशन के लिए बीएमसी लेगी स्त्री रोग विशेषज्ञों की मदद

मुंबई
मुंबई में 4 माह पहले गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण शुरू किया गया था, लेकिन इसे अच्छा प्रतिसाद नहीं मिल रहा है। कोरोना वैक्सीन को लेकर गर्भवती महिलाओं में अभी भी संशय है। इसे दूर करने और गर्भवती महिलाओं के वैक्सीनेशन का ग्राफ बढ़ाने के लिए बीएमसी अब स्त्री रोग विशेषज्ञों का सहारा लेगी।

मुंबई में गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण की शुरुआत 12 जुलाई से की गई थी। इससे पहले स्तनपान करानेवाली महिलाओं के टीकाकरण की शुरुआत मई में हुई थी। स्तनपान करानेवाली महिलाओं के टीकाकरण को तो अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है, लेकिन गर्भवती महिलाएं दिलचस्पी नहीं दिखा रही हैं।

इस तरह की जाएगी काउंसिलिंग
बीएमसी की कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मंगला गोमारे ने बताया कि गर्भवती महिलाओं के मन में अभी भी डर बना हुआ है कि वैक्सीन से उनके बच्चे को खतरा हो सकता है, इसीलिए हमारे डॉक्टर बीएमसी मैटरनिटी होम में जांच के लिए आने वाली गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण के लिए यथासंभव प्रोत्साहित कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि अब इन महिलाओं की काउंसिलिंग के लिए स्त्री रोग विशेषज्ञों की मदद ली जाएगी। जांच के दौरान इन महिलाओं को वैक्सीन के फायदे बताए जाएंगे और उनकी शंका को दूर किया जाएगा।

दो फीसद महिलाओं को दी गई खुराक
डॉ. मंगला गोमारे के मुताबिक, मुंबई में गर्भवती महिलाओं की संख्या करीब डेढ़ लाख है। इन डेढ़ लाख में से 4 महीनों में सिर्फ दो फीसद गर्भवती महिलाओं को ही वैक्सीन की खुराक दी गई है। डॉ. गोमारे ने बताया कि बीएमसी मैटरनिटी होम में रोजाना 200 से 300 महिलाओं को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

11 फीसद स्तनपान महिलाओं का टीकाकरण
पिछले 5 महीनों में 11 फीसद स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कोरोना वैक्सीन की खुराक दी गई है। 5 महीने में वैक्सीन की 11 हजार से अधिक खुराकें स्तनपान कराने वाली महिलाओं को दी जा चुकी हैं। मुंबई में करीब एक लाख से अधिक ऐसी महिलाएं हैं।