Hazaribagh News: धरने पर बैठे ग्रामीणों की पुलिस से झड़प, प्रदर्शनकारियों ने कई गाड़ियों को बनाया निशाना तो प्रशासन ने दिखाई सख्ती

रवि सिन्हा, हजारीबाग
झारखंड के हजारीबाग में बानादाग रेलवे कोल साइडिंग पर रविवार सुबह ग्रामीणों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हो गई। इस दौरान ग्रामीणों की ओर से कई पुलिस गाड़ियों पर पथराव किया गया। एंटी लैंड माइंस गाड़ी को भी नुकसान पहुंचाया। हालात इतने बिगड़ गए कि पुलिस को स्थिति संभालने के लिए पानी की बौछार करनी पड़ी। यही नहीं भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए।

अपनी मांगों को लेकर कई दिन से धरने पर हैं ग्रामीण
जानकारी के अनुसार, बानादाग स्थित कोल साइडिंग में पिछले कई दिनों से कोयले उठाने का काम बंद है और ग्रामीण अपनी विभिन्न मांगों को लेकर पांच दिनों से धरने पर बैठे हैं। ग्रामीणों और रैयतों की ओर से चल रहे धरना प्रदर्शन को अलग-अलग राजनीतिक दलों के नेताओं का भी समर्थन मिल रहा है। वहीं धरने के कारण यहां गाड़ियों की लंबी कतार लग गई।

इसे भी पढ़ें:- शशि थरूर फिर से बने आईटी कमेटी के अध्यक्ष, बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे से हुई थी ‘झड़प’, पढ़िए क्या है मामला
धरने से ट्रैफिक पर असर तो पहुंची पुलिस, फिर बिगड़े हालात
यातायात सामान्य कराने को लेकर रविवार को मौके पर पुलिस टीम पहुंची। उन्होंने ग्रामीणों को समझाकर हटाने की कोशिश की, लेकिन ग्रामीणों ने पथराव शुरू कर दिया। जिसके बाद पुलिस को भी बल प्रयोग करना पड़ा। पुलिस और ग्रामीणों के बीच झड़प में प्रदर्शनकारियों की ओर से दर्जनों गाड़ियों को टारगेट करते हुए पत्थरबाजी की गई। इस दौरान कई पुलिस गाड़ियों पर पथराव किया गया।

Dhanbad News : धनबाद में अमन सिंह गैंग ने गाड़ी शो रूम पर पटके बम, देखिए वीडियो

ग्रामीणों की पत्थरबाजी में कई गाड़ियों को नुकसान, फिर पुलिस ने दिखाई सख्ती
एंटी लैंड माइंस गाड़ी को भी ग्रामीणों ने नुकसान पहुंचाया। इस घटना में लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। वहीं ग्रामीणों को हटाने के लिए पुलिस की तरफ से पानी की बौछार की गई। हालांकि, प्रदर्शन कर रहे लोग हटने को तैयार नहीं हुए। इस बीच आंसू गैस के गोले भी दागे गए। फिलहाल मौके पर अतिरिक्त बलों की तैनाती कर दी गयी है और स्थिति तनावपूर्ण, परंतु पूरी तरह से नियंत्रित है।

झारखंड की सभी अदालतों में अब फिजिकल सुनवाई, 35 हजार वकीलों को राहत


ग्रामीणों को हटाने के लिए पानी की बौछार और दागे गए आंसू गैस के गोले
ध्यान रहे कि ग्रामीण और रैयत मुआवजा, नौकरी और प्रदूषण रोकने के लिए समुचित कदम उठाने समेत कई मांगों को लेकर पिछले कई दिनों से लगातार आंदोलन कर रहे हैं। उनकी ओर से बानादाग कोल साइडिंग को जल्द से जल्द बंद करने की मांग की जा रही है। ग्रामीणों के धरना प्रदर्शन की वजह से बानादाग कोल साइडिंग से कोयले का उठाव पूरी तरह से बंद है।

999