21.1 C
New Delhi
Thursday, December 8, 2022

हिम्मत है तो चुनाव लड़कर दिखाओ, आदित्य ठाकरे की एकनाथ शिंदे गुट के बागी विधायकों को खुली चुनौती

मुंबई: उद्धव सेना के युवा नेता आदित्य ठाकरे (Aditya Thackeray) ने शिंदे गुट के विधायकों को चुनौती दी है कि हिम्मत है, तो बागी विधायक इस्तीफा देकर चुनाव मैदान में उतरे। नए सिरे से चुनाव लड़। मैं भी अपनी सीट से इस्तीफा दूंगा और फिर से चुनाव लड़ूंगा। लोगों को तय करने दें। आदित्य ने कहा कि अगर मैं उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) होता, तो मैं इस सरकार से बाहर निकल जाता और नए सिरे से चुनाव का आह्वान करता।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी संविधान के आदर्शों, कानून के शासन और न्याय में विश्वास करती है। गौरतलब है कि इस साल जून में उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra) को गिराने वाले शिंदे और अन्य लोगों के विद्रोह का जिक्र करते हुए कहा, “यदि दो-तिहाई विधायक विद्रोह करते हैं और विद्रोह को वैध कर दिया जाता है, तो देश में अशांति होगी।” बीएमसी चुनाव (BMC Election) में हो रही ‘देरी’के लिए आदित्य ने राज्य सरकार की भी आलोचना की।

उन्होंने कहा, “पिछले 25 वर्षों में, हमने घाटे वाले एक नगर निकाय (बीएमसी) को 80,000 करोड़ रुपये के अधिशेष वाले निकाय में बदल दिया है और पाई-पाई का हिसाब है। शिंदे समूह के विद्रोह के लिए किसे दोषी ठहराया जाना चाहिए, यह पूछे जाने पर ठाकरे ने कहा, “मैं और मेरे पिता (उद्धव ठाकरे) उन लोगों पर अंधविश्वास के लिए दोष लेते हैं जिन्हें हम अपना समझते थे। हमने गंदी राजनीति नहीं की।”

…तो पार्टी को चुनाव चिन्ह वापस मिल जाएगा
उन्होंने कहा कि शिंदे गुट ने चुनाव आयोग में याचिका दायर कर केवल शिवसेना को नुकसान पहुंचाने के इरादे से ‘धनुष और तीर’ चुनाव चिन्ह मांगा है। उन्होंने कहा कि अगर न्याय हुआ तो उनकी पार्टी को चुनाव चिन्ह वापस मिल जाएगा। उन्होंने कहा, “मेरे दादा (बाल ठाकरे) ने भूमि पुत्रों और हिंदुत्व के मुद्दे को इसलिए उठाया क्योंकि ये मुद्दे उस दौर में थे, जबकि मेरे पिता ने मौजूदा समय के विकास के मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया था।” उन्होंने कहा, “क्या गलत हुआ, इस पर आत्मनिरीक्षण करने के बजाय, वह (उद्धव ठाकरे) हमारे खिलाफ आरोप लगा रहे हैं। मेरे लिए, विचारधारा महत्वपूर्ण है, मुख्यमंत्री पद नहीं। हमारे विधायक नाराज थे, लोग चाहते थे कि शिवसेना महाविकास अघाड़ी गठबंधन से बाहर हो जाए। हम शिवसेना-बीजेपी गठबंधन के लिए खड़े थे, जिसके लिए लोगों ने मतदान किया था।”

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,120FollowersFollow

Latest Articles