32.1 C
New Delhi
Tuesday, September 27, 2022

‘शूल’ फिल्म में दिखाया था लालू का जंगलराज! अब मनोज बाजपेयी बोले- आप हमहूं के हीरो हईं…

पटना : 1999 में फिल्म ‘शूल’ बनी थी। इसके हीरो मनोज बाजपेयी थे। मनोज बाजपेयी बेतिया के नरकटियागंज के रहनेवाले हैं। लिहाजा वो बिहार के जमीनी हकीकत से वाकिफ थे। तब बिहार में लालू यादव का राज था। जिसे जंगलराज के तमगे से नवाजा गया। राजनीतिक अपराध पर इस फिल्म की स्टोरी बेस्ड थी। इसमें मनोज बाजपेयी और रवीना टंडन के रोल को काफी सराहा गया। ‘शूल’ फिल्म के रिलीज होने के 23 साल बाद मनोज बाजपेयी को लालू यादव के हेल्थ की चिंता हुई और वो सीधे गाड़ियों का काफिला लेकर पटना के राबड़ी आवास पहुंच गए। जहां लालू यादव स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। हालचाल के दौरान मनोज बाजपेयी ने लालू यादव से कहा कि ‘आप हमहूं के हीरो हईं… मतलब आप हमारे हीरो हैं।’

जंगलराज और फिल्म ‘शूल’ के समर प्रताप सिंह
फिल्म ‘शूल’ में मनोज बाजपेयी एक पुलिस इंस्पेक्टर के रोल में हैं। इनका नाम समर प्रताप सिंह है। मनोज बाजपेयी ने इस किरदार में काफी सुर्खियां बटोरी थी। ‘शूल’ में रवीना ने ‘मंजरी’ के रूप में एक हाउसवाइफ का रोल प्ले किया था। इस फिल्म को बिहार के मोतिहारी में शूट किया गया था। इसका स्क्रीन प्ले ईश्वर श्रीनिवास, अनुराग कश्यप और रामगोपाल वर्मा ने लिखी थी। ईश्वर श्रीनिवास के निर्देशन में बनी इस फिल्म में इंस्पेक्टर समर प्रताप सिंह के किरदार को मनोज बाजपेयी ने बखूबी निभाया। ये फिल्म राजनीतिज्ञों और अपराधियों के बीच की मिलीभगत, बिहार में राजनीति के बढ़ते अपराधों और इसी बीच एक ईमानदार पुलिस ऑफिसर के जीवन में बढ़ती परेशानियों को बताती है। बिहार में उस वक्त इस तरह की घटनाएं मीडिया की सुर्खियां हुआ करतीं थीं। शानदार अभिनय के लिए मनोज बाजपेयी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवार्ड से नवाजा गया था।

प्रणाम! आप हमहूं के हीरो हईं… जब लालू यादव से पटना में मिले मनोज बाजपेयी
ईमानदार पुलिस इंस्पेक्टर Vs करप्ट पॉलिटिशियन
‘शूल’ फिल्म में दिखाया गया है कि इंस्पेक्टर समर प्रताप सिंह को उसकी ईमानदारी के कारण मोतिहारी ट्रांसफर कर दिया गया है। वहां लोकल अपराधी और करप्ट नेता बच्चू यादव से उसका सामना हो जाता है। जो धीरे-धीरे उसके और उसके परिवार के लिए खतरा बन जाता है। वो सत्ताधारी पार्टी का विधायक है। बच्चू यादव की वजह से समर प्रताप सिंह की जिंदगी पूरी तरह तबाह हो जाती है। आखिर में उसने पुलिस की नौकरी छोड़कर अपराधी के तौर-तरीके को अपना लेता है। दिखाया गया है कि कैसे वो भ्रष्ट सिस्टम का भेंट चढ़ जाता है। एक दिन वो भी आता है, जब वो विधानसभा में घुसकर बच्चू यादव को ढूंढ लेता है। फिर भरी सदन में उसकी हत्या कर देता है। ये पूरी बातें ‘शूल’ फिल्म में दिखाई गई है।

94278248

पटना में लालू यादव से मिले मनोज बाजपेयी
‘शूल’ फिल्म के रिलीज होने के 23 साल बाद लालू यादव सियासत की सीढ़ियां चढ़ते गए। अब उनका छोटे बेटे तेजस्वी यादव बिहार के उपमुख्यमंत्री हैं। बड़े बेटे तेज प्रताप यादव बिहार में मंत्री हैं। बड़ी बेटी मीसा भारती राज्ससभा सांसद हैं। लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी बिहार विधानपरिषद की सदस्य हैं। मनोज बाजपेयी अब बॉलीवुड के जानेमाने कलाकार हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं, जो लालू यादव के पुराने दोस्त और सियासी दुश्मन भी हैं। फिलहाल लालू और नीतीश की दोस्ती परवान चढ़ रही है। पटना के राबड़ी आवास पहुंचे मनोज बाजपेयी ने चायपानी के बाद लालू यादव का गौशाला भी देखा। वो लालू यादव के सामने हाथ जोड़े खड़े थे और आरजेडी सुप्रीमो ने उनकी दोनों बाहों को पकड़ रखा था। मनोज बाजपेयी ने लालू यादव से कहा कि ‘आप हमारे भी हीरो हैं।’

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,125FollowersFollow

Latest Articles