‘विस्फोटक कार’ केस NIA को सौंपने पर भड़के उद्धव ठाकरे, बोले- कुछ गड़बड़ है, खुलासा करके रहेंगे

Webvarta Desk: महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई स्थित मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani Threat Case) के घर के बाहर विस्फोटकों से भरी गाड़ी मिलने के मामले की जांच अब एनआईए (NIA) करेगी। इससे पहले मुंबई की ATS केस की जांच कर रही थी।

सोमवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) NIA के केस को अपने हाथ में लेने पर भड़क गए। उन्होंने संदेह जताते हुए कहा कि जिस तरीके से मामले को एटीएस से एनआईए को दिया गया है, यह दिखाता है कि मामले में कुछ गड़बड़झाला है।

केंद्रीय जांच एजेंसी केस को अपने हाथ में लेने के बाद फिर से मामले में एफआईआर दर्ज करने की तैयारी में है। ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने इसे संदेहास्पद बताते हुए कहा कि मनसुख हिरेन मामले की जांच एटीएस कर रही थी। सिस्टम सिर्फ एक आदमी के लिए नहीं है। हम एटीएस पर पूरी तरह से भरोसा करते हैं, इसलिए उसकी जांच जारी है लेकिन इसके बावजूद केंद्र अगर मामले को एनआईए को सौंपता है तो इसका मतलब है कि कुछ संदेहास्पद है।

ठाकरे ने कहा कि हम इसे तब तक नहीं छोड़ेंगे, जब तक कि इसका खुलासा नहीं कर देते। उन्होंने आशंका भी जताई कि विपक्ष कानून व्यवस्था को लेकर महाराष्ट्र की छवि खराब करने की कोशिश कर रहा है। बता दें कि बीती 25 फरवरी को मुकेश अंबानी के बहुमंजिला बिल्डिंग एंटीलिया के सामने एक स्कॉर्पियो में विस्फोटक पाए गए थे। यह स्कॉर्पियो चोरी की थी और इसके मालिक बीते शुक्रवार को मृत पाए गए थे।