TRP केस में अब मनी लॉन्ड्रिंग का भी खुलासा, 2 चैनलों के बैंक अकाउंट्स सील

New Delhi: फख्त मराठी और बॉक्स सिनेमा नाम के चैनलों के दो-दो बैंक अकाउंट्स सोमवार को सील कर दिए गए हैं। इस केस (TRP Case) में रिपब्लिक टीवी (Republic TV) भी जांच के घेरे में है।

क्राइम ब्रांच इस चैनल (Republic TV) के भी सभी बैंक अकाउंट्स की जांच कर रहा है और संभव है आने वाले दिनों में इस चैनल के भी कुछ अकाउंट्स को लेकर कार्रवाई हो। क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी के अनुसार, हम जांच के घेरे में आए सभी चैनलों के बैंक अकाउंट्स के पिछले तीन साल के लेन-देन की पड़ताल कर रहे हैं।

मुंबई सीपी ने दो दिन पहले कहा था कि वह इस केस में शक के घेरे में आए सभी टीवी चैनलों की फरेंसिक ऑडिटिंग कराएंगे। सोमवार को मुंबई क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने कहा कि फरेंसिक ऑडिटर नियुक्त करने के लिए टेंडर निकाला गया है।

क्राइम ब्रांच इस बात की भी पड़ताल कर रही है कि फर्जी टीआरपी वाली जांच के घेरे में आए चैनल से जुड़े लोग कहीं मनी लॉन्ड्रिंग के अपराध में तो शामिल नहीं हैं। मुंबई क्राइम ब्रांच का दावा है कि फर्जी टीआरपी वाले केस में कुछ और चैनलों के नाम भी आए हैं। उनकी जांच चल रही है।

किसके सहारे TRP होती थी मैनेज?

अब तक क्राइम ब्रांच इस केस में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी थी। सोमवार को क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) के सीनियर इंस्पेक्टर सचिन वझे की टीम ने पांचवें आरोपी विनय त्रिपाठी को मिर्जापुर से गिरफ्तार किया है।

इस केस में पिछले सप्ताह गिरफ्तार हुए हंसा के कर्मचारी विशाल भंडारी को रकम विनय त्रिपाठी के जरिए मिलती थी। भंडारी फिर उन लोगों को कुछ खास चैनलों को देखने के लिए रिश्वत देता था, जिनके घर बैरोमीटर लगे हुए हैं। विनय त्रिपाठी जून, 2018 तक हंसा कंपनी में रिलेशनशिप मैनेजर था। बाद में उसने कंपनी छोड़ दी थी। क्राइम ब्रांच का आरोप है कि जांच के घेरे में आए कुछ चैनल उसके जरिए टीआरपी मैनेज करते थे।

‘कमाई का एकमात्र जरिया…’

मुंबई क्राइम ब्रांच इस केस में अब तक 36 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। इस केस के तार सात राज्यों से जुड़ रहे हैं। सोमवार को मुंबई क्राइम ब्रांच ने हंसा के सीईओ प्रवीण निझार का बयान दर्ज किया। हंसा के डेप्युटी मैनेजर और इस केस में शिकायतकर्ता नितिन देवकर का भी पूरक बयान दर्ज किया गया है।

क्राइम ब्रांच ने उनसे कुछ और दस्तावेज भी मांगे हैं। सोमवार को हंसा कंपनी से जुड़े लोगों के अलावा भी कुछ लोगों के बयान दर्ज हुए। क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी के अनुसार, रिपब्लिक की तरफ से उन्हें बताया गया है कि उनकी कमाई का एकमात्र जरिया विज्ञापन हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *