मायावती का बदला मिजाज, बोलीं- राजनीति से संन्यास मंजूर.. पर BJP के साथ गठबंधन नहीं करेगी BSP

New Delhi: राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha) में समाजवादी पार्टी की ‘साजिश’ पर गुस्साई मायावती (Mayawati) ने कहा कि वह एसपी को हराने के लिए BJP को भी सपोर्ट करने से नहीं हिचकेंगी। तब सियासी गलियारों में यह चर्चा होने लगी कि कहीं मायावती आगामी चुनावों में बीजेपी के साथ अलायंस का तो मन नहीं बना रही। हालांकि, अब BSP चीफ ने इन सारे अटकलों पर विराम लगा दिया है। मायावती ने साफ कहा है कि बीएसपी कभी भी बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करेगी।

यूपी में विधानसभा (UP Bypolls) की सात सीटों पर मंगलवार को होने वाले मतदान से एक दिन पहले मायावती (Mayawati) ने BJP के साथ मिले होने के आरोपों पर सफाई दी। माया ने कहा कि उनकी पार्टी बीजेपी की विचारधारा के विपरीत है और भविष्‍य में विधानसभा या लोकसभा चुनाव में बीजेपी के साथ कभी गठबंधन नहीं करेगी।

‘ताकि मुस्लिम समाज के लोग BSP से अलग हो जाएं’

मीडिया से बातचीत में मायावती (Mayawati) ने कहा कि उपचुनाव में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस हमारी पार्टी के खिलाफ साजिश में लगी है और गलत ढंग से प्रचार कर रही है ताकि मुस्लिम समाज के लोग बीएसपी से अलग हो जाएं। बीएसपी सांप्रदायिक पार्टी के साथ समझौता नहीं कर सकती है। हमारी विचारधारा सर्वजन धर्म की है और बीजेपी की विपरीत विचारधारा है।

BSP चीफ (Mayawati) ने साफ तौर पर कहा कि बीएसपी सांप्रदायिक, जातिवादी और पूंजीवादी विचारधारा रखने वालों के साथ कभी गठबंधन नहीं कर सकती है। वह राजनीति से संन्यास ले सकती हैं, लेकिन ऐसी पार्टियों के साथ नहीं जाएंगी। उन्होंने दावा किया कि वह सांप्रदायिक, जातिवादी और पूंजीवादी विचारधारा रखने वालों के साथ सभी मोर्चों पर लड़़ेंगी और किसी के सामने झुकेंगी नहीं।

‘मेरे शासन में कोई हिंदू-मुस्लिम दं’गा नहीं हुआ’

पुराने दिनों को याद करते हुए माया ने कहा, यह सभी जानते हैं कि बीएसपी एक विचारधारा और आंदोलन की पार्टी है और जब मैंने बीजेपी के साथ सरकार बनाई तब भी मैंने कभी समझौता नहीं किया। मेरे शासन में कोई हिंदू-मुस्लिम दं’गा नहीं हुआ। इतिहास इसका गवाह है। बीएसपी ने विपरीत परिस्थितियों में जब कभी बीजेपी से मिलकर सरकार बनाई तो भी कभी अपने स्‍वार्थ में विचारधारा के खिलाफ गलत कार्य नहीं किया।

समाजवादी पार्टी जब भी सत्‍ता में आई तो बीजेपी मजबूत हुई है। राज्य में बीजेपी की मौजूदा सरकार सपा के कारण बनी है। उन्‍होंने याद दिलाया कि उपचुनाव में बीएसपी ने सात सीटों में दो पर मुस्लिम उम्‍मीदवार उतार कर उनको प्रतिनिधित्‍व दिया है। यूपी में अपने अकेले दम पर या बीजेपी के साथ मिलकर जब भी हमने सरकार बनाई तो मुस्लिम समाज का कोई नुकसान नहीं होने दिया, भले ही अपनी सरकार क़ुर्बान कर दी।

‘उस वक्त भी मैंने कुर्सी की चिंता नहीं की’

उन्‍होंने विस्तार में जाए बिना कहा कि 1995 में जब बीजेपी के समर्थन से मेरी सरकार बनी तो मथुरा में बीजेपी और आरएसएस के लोग नई परंपरा शुरू करना चाहते थे लेकिन मैंने उसे शुरू नहीं होने दिया और मेरी सरकार चली गई। साल 2003 में मेरी सरकार में जब बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में गठबंधन के लिए दबाव बनाया तब भी मैंने स्‍वीकार नहीं किया। बीजेपी ने सीबीआई और ईडी का भी दुरुपयोग किया, लेकिन मैंने कुर्सी की चिंता नहीं की।

‘…तब सोनिया का भी फोन आया था’

माया ने कहा कि सीबीआई और ईडी जब 2003 में मुझे परेशान कर रही थी तो उस समय कांग्रेस नेता सोनिया गांधी का फोन आया था और न्‍याय दिलाने का वादा किया लेकिन लंबे समय तक कांग्रेस की सरकार रही लेकिन कोई मदद नहीं की और मुझे अंतत: सुप्रीम कोर्ट से न्‍याय मिला। बीएसपी के दलित उम्‍मीदवार को राज्‍यसभा में जाने से रोकने के लिए सपा ने पूंजीवादी प्रकाश बजाज को मैदान में उतारा, इसे बीएसपी कभी भूलेगी नहीं।

अखिलेश के ये आरोप

बता दें कि सपा अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने पिछले दिनों मायावती पर बीजेपी से मिले होने का आरोप लगाते हुए कहा था कि राज्‍यसभा चुनाव में बीजेपी और बीएसपी के गठबंधन को उजागर करने के लिए ही समाजवादी पार्टी ने निर्दलीय उम्‍मीदवार का समर्थन किया था। सपा ने निर्दलीय प्रकाश बजाज को समर्थन दिया था, जिनका नामांकन बाद में निरस्‍त हो गया।