पॉवरमैक एवं पॉवरग्रिड की दलाल मंडली को नोटिस जारी होने से हड़कंप, आफिसों में तामील कराने पहुंची पुलिस

AIPEF

ग्वालियर, 12 जून (मुकेश शर्मा)। अचंल के भिण्ड जिले में सात दिनों पहले सोसल मीडिया पर वायरल हुई पोस्ट को लेकर पुलिस अधीक्षक महोदय को ज्ञापन देने वाली दलाल मंडली को जांच अधिकारी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक की ओर से नोटिस जारी किए जाने से हड़कंप मचा हुआ है।

शनिवार को दिन भर ब्रांड मीडिया समेत अन्य हस्ताक्षर करने वाले लोगों को नोटिस तामील कराने का काम चलता रहा। इस नोटिस के बाद मासिक पगार पर काम करने वाले लोगों को दिन दस्त की शिकायत रही। आधा दर्जन से अधिक कथित पत्रकारों ने तो लिखकर दिया है कि दलाल मंडली ने उनसे झांसा देकर हस्ताक्षर करा लिए थे। उक्त लोगों को रविवार 13 जून को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में बुलाया गया है।

पूर्व में उन तीन लोगों को सूचना पत्र भेजा गया था जिन्होंने बिना नाम से एक पोस्ट वायरल की थी। जिसमें दलाल मंडली का भंडाफोड़ किया गया था। लेकिन इस सूचना पत्र में वो ज्ञापन नहीं था जो एसपी महोदय को दिया गया था। इस संबंध में आपत्ति लिए जाने के बाद ही दलाल मंडली को नोटिस तामील कराए गए हैं। दरअसल हिंदी में एक कहावत हैं चोर की दाढ़ी में तिनका। ये दलाल मंडली पर मुफीद साबित हो रही है।

वायरल पोस्ट में दलालों का जिक्र तो किया गया था लेकिन किसी का नाम या पहचान नहीं था लेकिन दलाल ने दाढ़ी टटोली तो उसे तिनका नजर आया और उसने पॉवरग्रिड, पॉवरमैक से माल लेने वालों को एकजुट किया और ज्ञापन देने के लिए पहुंच गया। इसमें कुछ ऐसे भी थे जिनकों ज्ञापन के बारे में जानकारी ही नहीं दी गई। मुसीबत यह है कि अब ये ज्ञापन इन्हीं के गले पड़ गया है। अब इन्हें बयानों में यह बताना होगा कि – वे दलाल है या नहीं।

पर्याप्त आय न होने के बाद भी उनकी संपत्ति कैसे बढ़ रही है। इन बयानों के आधार पर शिकायत आयकर विभाग और लोकायुक्त को भेजी जाएगी कि आखिर खेला कैसे हुआ। इस दलाल मंडली में कुछ लोगों ऐसे भी जिनपर आपराधिक मामले दर्ज है। गोरमी थाना क्षेत्र में एक सिपाही के साथ मारपीट की एफआईआर है। इस मामले में लिपापोती की कोशिश चल रही है। कुछ लोग तो ये कह रहें है कि हवा में उड़ता तीर लिया था- जो मुसीवत बन गया है।