22.1 C
New Delhi
Wednesday, October 4, 2023

आदतन नशे की आदी भिंड आरटीओ स्वाति पाठक के विरुद्ध परिवाद दर्ज, सुनवाई 25 को

-विभाग ने वरिष्ठ अधिकारी को सौंपी जांच

-मुकेश शर्मा (9617222262)-

ग्वलियर/भिंड, 12 फरवरी (वेब वार्ता)। आदतन नशे की आदी नशा करके कार्यालय का कार्य सम्पादित् करने के लिये चर्चित आरटीओ स्वाति पाठक के विरुद्ध भिंड न्यायालय में प्रकरण क्रमांक 50/2023 यूएनसीआर धारा 341, 323, 294, 506 के तहत परिवाद दर्ज किया गया है जिसकी सुनवाई दिनांक 25/02/2023 को की जाएगी। आवेदक रूपेंद्र प्रताप सिंह की ओर से एडवोकेट अशोक भदौरिया ने अभद्र व्यवहार एवं गली गलौज के मामले में परिवाद दायर किया है।

परिवाद पत्र के अनुसार प्रार्थी रूपेंद्र प्रताप सिंह पुत्र कन्हई सिंह उर्फ किशन सिंह निवासी शिवाजी नगर भिंड अपने निजी कार्य से अपने दो निजी चार पहिया वाहन स्कार्पियो एमपी 30 सी 8557 एवं आई 20 एमपी 07 सीडी 8558 के रजिस्ट्रेशन एवं ड्राइविंग लाइसेंस गुम हो जाने के कारण डुप्लीकेट आरसी एवं ड्राइविंग लाइसेंस की जानकारी लेने हेतु लश्कर रोड स्थित परिवहन कार्यालय पहुंचा लेकिन वहां बाबू के ना मिलने पर प्रभारी आरटीओ स्वाति पाठक के चेंबर की तरफ पहुंच गए लेकिन फरियादी को देखते ही आरटीओ स्वाति पाठक ने फरियादी रूपेंद्र सिंह को बाहर निकल जाने के लिए आदेश दे दिया, फरियादी रूपेंद्र के पूछने पर कि में अपने वाहन की डुप्लीकेट आरसी एवं ड्राइविंग लाइसेंस की जानकारी लेने के लिए आया हूं। इतना सुनते ही स्वाति मैडम ने भद्दी-भद्दी गालियां देना शुरू कर दीं और उन्होंने सूखे नशे जैसी हालत में अपना आपा खोकर फरियादी को गैलरी में घेर लिया तथा अश्लील शब्दों का प्रयोग करते हुए हाथा पाई करने लगी और मोबाइल छीनकर तोड़ने की कोशिश करने लगी।

मोहतरमा स्वाति पाठक इतनी पर ही शांत नहीं हुई इसके बाद भी फरियादी भूपेंद्र सिंह पर मुकदमा दर्ज कराने एवं झूठे केस में फंसाने की धमकी भी दे डाली। पत्र में यह भी उल्लेख किया गया है कि संपूर्ण घटना के साक्षी कार्यालय में स्थित तेज प्रताप सिंह पुत्र नाथू सिंह ग्राम भारोली एवं अजय सिंह तोमर पुत्र राजेंद्र सिंह तोमर निवासी वनखंडेश्वर रोड भिंड ने उक्त घटना को अपने सामने होना बताया है एवं दौनो साक्षी मामले के गवाह हैं।

आरटीओ स्वाति पाठक ने अपने पदीय कर्तव्यों के निर्वहन में बरती गई लापरवाही एवं नशे की हालत में आरटीओ स्वाति पाठक द्वारा की गई अभद्रता से फरियादी को मानसिक आघात होकर स्वास्थ्य चिकित्सा का सहारा लेना पड़ा। इस मामले में फरियादी ने आरटीओ स्वाति पाठक की शिकायत जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, आईजी चंबल, डीजीपी पीएचक्यू भोपाल एवं मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश शासन को रजिस्टर्ड डाक द्वारा भेजी गई परंतु आज दिनांक तक कोई कार्यवाही ना होने के कारण मजबूर होकर फरियादी रूपेंद्र सिंह ने अधिवक्ता अशोक भदौरिया के माध्यम से न्यायालय की शरण मैं जाना उचित समझा।

दिनांक 23 जनवरी 2023 को न्यायालय में परिवाद पत्र पेश कर अनुरोध किया गया है कि भारतीय दंड विधान की धारा 341 323 294 506 के तहत मामले की सुनवाई कर फरियादी को न्याय दिलाने की मांग की गई है।

इनका कहना है..

किसी भी संवेधानिक पद पर बैठे व्यक्ति द्वारा आम आदमी के प्रति ऐसा वर्ताव करना कृत्य एवं दुस्कृत्य की श्रेणी में आता है इसीलिए न्याय हित में परिवाद दायर किया है और और माननीय न्यायालय से हमें न्याय की पूरी उम्मीद है।

-अशोक भदौरिया, वरिष्ठ अधिवक्ता

मामला न्यायालय में है, हम माननीय न्यायालय का सम्मान करते हैं, कोर्ट के जो भी आदेश होंगे हम उनका पालन करेंगे। वैसे मामला विभाग के संज्ञान में है जिसकी जांच डिप्टी कमिश्नर द्वारा की जा रही है बाकी दो जिलों के प्रभार के मामले में शासन को अवगत कराया गया है। ये व्यवस्था शासन स्तर से की जाती है।

-अरविंद सक्सेना, उपायुक्त परिवहन (प्रवर्तन) मध्यप्रदेश

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,147FollowersFollow

Latest Articles