Kerala Gold Smuggling Case: CM पिनराई का खुलासा- पूर्व मुख्य सचिव ने की थी तस्करों से बात

New Delhi: केरल में सोने की तस्करी (Kerala Gold Smuggling Case) के हाईप्रोफाइल मामले में खुलासे होने शुरू हो गए हैं।

केरल के सीएम पिनराई विजयन ने मंगलवार को बताया कि कॉल रिकॉर्ड से पता चला है कि एम शिवशंकर (केरल के पूर्व मुख्य सचिव) ने एक महिला सहित सोने की तस्करी (Kerala Gold Smuggling Case) के दो आरोपियों के साथ टेलीफोन पर बातचीत की थी।

इस नए खुलासे के आधार पर केरल के मुख्य सचिव एक जांच शुरू करेंगे। उधर, कस्टम अधिकारियों ने केरल सीएम के पूर्व प्रमुख सचिव एम शिवशंकर से उनके घर पहुंचकर पूछताछ की।

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने इस बात पर जोर दिया था कि सोना तस्करी मामले में गड़बड़ी करने वाले किसी भी व्यक्ति को बचाया नहीं जाएगा। इस मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही है और उसे इस मामले में दो मुख्य आरोपियों की हिरासत मिली है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग यह आरोप लगा रहे हैं कि मामले में आरोपियों के उनके कार्यालय से संबंध हैं, वे लोग खुद ही चिंतित हैं क्योंकि उन्हें संदेह है कि जांच ”बड़ी मछलियों” तक भी पहुंचेगी।

एनआईए की हिरासत में हैं दोनों आरोपी

एनआईए की अपील पर कोच्चि की स्पेशल कोर्ट ने सोमवार को सोना तस्करी मामले के दो मुख्य आरोपियों स्वप्ना सुरेश और संदीप नैयर को आठ दिनों के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया था। दोनों को शनिवार को बेंगलुरू से गिरफ्तार किया गया था।

एनआईए दोनों को रविवार को यहां लेकर आई और कोर्ट के समक्ष पेश किया जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। दोनों पर आरोप है कि वे राजनयिक चैनल का इस्तेमाल कर 30 किलोग्राम से अधिक सोने की तिरूवनंतपुरम हवाई अड्डे के जरिये तस्करी करने का प्रयास कर रहे थे।

नोटिस मिलने के बाद कस्टम ऑफिस पहुंचे एम शिवशंकर

केरल में सोने की तस्करी के मामले में मंगलवार को सीमा शुल्क के अधिकारियों की एक तीन-सदस्यीय टीम तिरुवनंतपुरम में एम. शिवशंकर (केरल के पूर्व मुख्य सचिव) के घर पहुंची और उन्हें नोटिस दिया।

कस्टम अधिकारियों के उनसे घर पर पूछताछ की। इसके बाद वह (एम. शिवशंकर) तिरुवनंतपुरम स्थित सीमा शुल्क कार्यालय पहुंचे और वहां केरल में सोने की तस्करी के मामले में सवालों के जवाब दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *