Karnataka Political Crisis: फिर शुरू कर्नाटक का नाटक! विधानसभा में क्या है संख्याबल, जानें गणित

Webvarta Desk: Karnataka Political Crisis: कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा सरकार (BS Yeddyurappa Govt) के मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब भारतीय जनता पार्टी (BJP) में आंतरिक मतभेद दिख रहे हैं। कर्नाटक के कुछ नाराज विधायकों ने दिल्ली में बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व से मिलकर अपनी बात रखने का संकेत दिया है।

बीजेपी (BJP) के इन नाराज विधायकों ने मंगलवार को अपनी बैठक करने का ऐलान किया है। हालांकि अब तक कर्नाटक (Karnataka Political Crisis) की सरकार पर किसी सियासी संकट की खबरों को फिलहाल खारिज किया गया है। येदियुरप्पा (BS Yeddyurappa) के खिलाफ खड़े विधायकों ने भी कहा है कि उन्हें किसी भी तरह बागी ना कहा जाए।

विधानसभा में ऐसी स्थितियां

अगर दलीय स्थितियों पर गौर करें तो 224 सदस्यों की कर्नाटक विधानसभा में फिलहाल बीजेपी के पास 122 विधायकों का समर्थन है। इसमें 119 सदस्य बीजेपी के हैं और तीन निर्दलीय विधायक हैं। इसके अलावा कांग्रेस के पास 67, जनता दल (सेक्युलर) के पास 33 विधायक हैं। यह दोनों दल विपक्ष का हिस्सा हैं। कांग्रेस के ही सिद्धारमैया वर्तमान में नेता प्रतिपक्ष हैं।

सरकार पर खतरा नहीं!

हालांकि येदियुरप्पा के खिलाफ आवाज उठाने वाले विधायकों ने कहा है कि मंगलवार को होने वाली बैठक पार्टी में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लोकतांत्रिक ढांचे के भीतर ही होगी। कहा जा रहा है कि बैठक में आगे की रणनीति पर विचार करेंगे। ये नाराज विधायक नई दिल्ली स्थित वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात भी कर सकते हैं। होन्नाली से पार्टी के विधायक एम पी रेणुकाचार्य ने ने कहा कि बैठक करके हम लोग आगे की रणनीति तय करेंगे।

रेणुकाचार्य बोले, न समझें बागी

मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा के वफादार समझे जाने वाले रेणुकाचार्य ने मीडिया से आग्रह किया है उन्हें असंतुष्ट या बागी विधायक न समझा जाए। आपको बता दें कि बीते बुधवार को मंत्रिमंडल विस्तार होने के तुरंत बाद लगभग एक दर्जन बीजेपी विधायकों ने येदियुरप्पा के खिलाफ बगावत की थी।