Bhandara Fire: रिपोर्ट में खुलासा- शॉर्ट सर्किट और लापरवाही के चलते लगी थी अस्पताल में आग

Webvarta Desk: Maharashtra Bhandara Hospital Fire Case: भंडारा के सरकारी अस्पताल (Bhandara fire) में लगी आग की जांच करने वाली कमिटी ने अपनी रिपोर्ट महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Govt) को मंगलवार के दिन सौंप दी है।

नागपुर के डिविजनल कमिश्नर संजीव कुमार ने इस रिपोर्ट में बताया है कि यह हादसा (Bhandara fire) शॉर्ट सर्किट की वजह से हुआ है। साथ ही रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि भविष्य में ऐसे हादसों को टालने के लिए किन बातों का विशेष ध्यान रखना होगा।

पचास पन्नों की है रिपोर्ट

जांच कमेटी द्वारा बनाई गई है रिपोर्ट तकरीबन 50 पन्नों की है। बुधवार के दिन इस रिपोर्ट को कैबिनेट के सामने रखा जाएगा। आपको बता दें कि महाराष्ट्र दमकल विभाग के डायरेक्टर पी. रहांगदले ने भी अपनी जांच रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है। आग लगने के बाद में यह पता चला था कि अस्पताल बगैर दमकल विभाग की एनओसी की ही चल रहा था।

लापरवाही से हुआ हादसा

जांच रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि किसकी लापरवाही से हादसा हुआ। जिसके चलते 10 मासूमों को अपनी जान गंवानी पड़ी। रिपोर्ट के मुताबिक इस घोर लापरवाही में अस्पताल के कुछ वरिष्ठ अधिकारी शामिल हैं। जिन्होंने समय पर हॉस्पिटल का फायर ऑडिट नहीं करवाई उपकरणों का रखरखाव ठीक से नहीं हुआ ऐसी कुछ बातों का जिक्र रिपोर्ट में किया गया है।

दस नवजात शिशुओं की मौत

भंडारा के सरकारी अस्पताल में आधी रात को लगी इस भीषण आग में 10 नवजात शिशुओं को अपनी जान गंवानी पड़ी यह सभी बच्चे अस्पताल के एनआईसीयू में भर्ती थे। जब आग लगी तब अस्पताल में मौजूद बच्चों के परिजन और अन्य मरीज सो रहे थे लेकिन शार्ट सर्किट की वजह से लगी आग ने अस्पताल प्रशासन को संभलने का मौका नहीं दिया हालांकि अस्पताल प्रशासन ने बाकी मरीजों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया था लेकिन 10 नवजात बच्चों को अस्पताल प्रशासन इस आग से नहीं निकल पाया।