बाल देखभाल केंद्रों में आने वाले हर व्यक्ति का ब्यौरा दर्ज करें : अनीता शर्मा

Anita Sharma

सोनीपत, 19 जून (राजेश आहूजा)। बाल देखभाल केंद्रों में सब्जी वाले से लेकर अधिकारी तक आने वाले हर व्यक्ति का ब्यौरा विजीटर रजिस्टर में दर्ज किया जाए। यह निर्देश केंद्रों की निरीक्षण कमेटी में शामिल बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) की चेयरपर्सन अनीता शर्मा ने दिए। वे कमेटी सदस्यों के साथ बाल ग्राम राई और सेक्टर-23 स्थित एसओएस यूथ होम का निरीक्षण कर रही थी।

निरीक्षण कमेटी में जिला बाल संरक्षण अधिकारी (डीसीपीओ) डा. रितु, बाल संरक्षण अधिकारी (संस्थानिक) ममता शर्मा व किशोर न्याय बोर्ड के सदस्य सोहन पाराशर और कार्यक्रम अधिकारी संदीप शामिल थे। अतिरिक्त उपायुक्त अशोक बंसल के निर्देशन में कमेटी ने दोनों बाल देखभाल केंद्रों (सीसीआई) का गंभीरता से निरीक्षण किया।

सीडब्ल्यूसी की चेयरपर्सन अनीता शर्मा ने कहा कि हर केंद्र में विजीटर रजिस्टर लगाया जाए, जिसमें आने-जाने वाले लोगों की जानकारी दर्ज होनी चाहिए। उन्होंने एसओएस यूथ होम में स्टाफ की कमी को भी जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि जेजे एक्ट के अनुसार स्टाफ की भर्ती की जाए और हर  नये कर्मचारी की पुलिस वैरिफिकेशन अनिवार्य रूप से करवाई जाए।

निरीक्षण कमेटी ने केंद्रों में साप्ताहिक गतिविधि कार्यक्रम तैयार करने के निर्देश दिए, ताकि विद्यार्थियों को पढ़ाई व अन्य रचनात्मक एवं शैक्षणिक गतिविधियों में व्यस्त रखा जा सके। डीसीपीओ डा. रितु व बाल संरक्षण अधिकारी ममता शर्मा ने कहा कि छात्र जीवन अमूल्य होता है, जिसका हर क्षण उपयोगी होना चाहिए। छात्र काल में कोई भी क्षण व्यर्थ नहीं गंवाना चाहिए। केंद्र के बच्चों की पढ़ाई का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने बाल ग्राम राई में रिडिंग रूम को व्यवस्थित करने तथा एसओएस में रिडिंग रूम स्थापित करने के निर्देश दिए। कोरोना काल में उपजे नकारात्मक माहौल का बच्चों पर प्रभाव नहीं पडऩा चाहिए। उन्होंने केंद्रों में आवश्यक स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश भी दिए।

कमेटी सदस्यों ने बाल ग्राम राई में पानी की निकासी के भी उचित प्रबंधन के निर्देश दिए। उन्होंने केंद्रों में समाचार पत्र लगवाने के निर्देश भी दिए। कमेटी ने बाल ग्राम में बच्चों के लिए नये कपड़ों की व्यवस्था के निर्देश भी दिए। साथ ही उन्होंने केंद्रों में सुझाव/शिकायत पेटिका लगाने के निर्देश भी दिए, जिसकी एक चाबी कमेटी को सुपुर्द करने के निर्देश दिए। ताकि बच्चे अपनी समस्याएं साझा कर सकें। साथ ही बच्चों की सुविधा व कल्याण के लिए अन्य आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए। निरीक्षण कमेटी में सीडब्ल्यूसी चेयरपर्सन अनीता शर्मा सहित डीसीपीओ डा. रितु व बाल संरक्षण अधिकारी ममता शर्मा सहित किशोर न्याय बोर्ड के सदस्य सोहन पाराशर और कार्यक्रम अधिकारी संदीप ने केंद्रों के बच्चों को भी शिक्षा के साथ खेलकूद तथा रचनात्मक गतिविधियों में हिस्सा लेने के लिए प्रोत्सााहित किया।