गाजियाबाद में पेंसिल बम बनाने की अवैध फैक्ट्री में आग, 7 महिलाओं और 1 बच्चे ने गंवाई जान

New Delhi: फैक्ट्री में आग: उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले में एक पेंसिल बम बनाने वाली फैक्ट्री (Ghaziabad Pencil Bomb Factory Fire) में भीषण आग लग गई है। आग की चपेट में आने से अभी तक 8 लोगों की मौ’त हो गई है।

म’रने वालों में सात महिलाएं और एक बच्चा है। हादसे में कम-से-कम चार अन्य जख्मी भी हुए हैं जिन्हें अस्पताल भेजा गया है। आग (Ghaziabad Pencil Bomb Factory Fire) पर काबू पाने के लिए फायर बिग्रेड और पुलिस की टीम घटनास्थल पर मौजूद है।

अवैध है फैक्ट्री

इस अवैध फैक्ट्री (Ghaziabad Pencil Bomb Factory Fire) में बर्थडे केक पर लगने वाले पेंसिल बम और मोमबत्ती बनाई जाती है। फैक्ट्री में महिलाओं और बच्चे भी काम करते हैं। हादसे की सूचना मिलने के तत्काल बाद ही पुलिस और फायर बिग्रेड की गाड़ी मौके पर पहुंच गई। आग बुझाने का काम जारी है। घायलों को निकालकर अस्पताल भेजने का काम किया जा रहा है। घायलों की अभी तक पहचान नहीं हो सकी है।

आसपास के लोगों ने बताया कि गांव में ही यह फैक्ट्री (Ghaziabad Pencil Bomb Factory Fire) चल रही थी। आसपास के लोग ही इस फैक्ट्री में आकर काम करते थे। जिलाधिकारी अजय शंकार पांडे ने बताया है कि आठ लोगों की मौत हो चुकी है और कम-से-कम चार लोग घायल भी हैं।

आग लगने के कारण बाहर नहीं निकल सके लोग

चीफ फायर सेफ्टी ऑफिसर सुनील कुमार सिंह ने बताया कि 4 बजे के करीब यहां पर आग एक छप्पर में लगी जिसके बाद पूरी फैक्ट्री में यह आग फैल गई। अंदर काम कर रहे लोग बाहर नहीं निकल सके। जलने की वजह से इन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। फैक्ट्री मालिक का नाम नितिन बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि अंदर कुछ और लोग भी फंसे हो सकते है जिन्हें निकालने के लिए पुलिस और फायर बिग्रेड की टीम लगी हुई है।

गुस्साए लोगों ने डीएम-एसएसपी को घेरा

अवैध फैक्ट्री में हुए धमाके में लोगों की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने मौके पर पहुंचे डीएम और एसएसपी को घेर लिया है। आक्रोशित लोग शवों को घटनास्थल से नहीं हटाने दे रहे हैं। स्थानीय लोगों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। आरोप है कि 3 महीने पहले ही यह फैक्ट्री अवैध रूप से शुरू की गई थी और सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं थे।

घटना की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डीएम और एसएसपी को निर्देश दिए हैं कि घायलों को तुरंत राहत पहुंचाई जाए। साथ ही दोनों अधिकारियों का कहा गया है कि घटनास्थल की जांच करके रविवार शाम तक ही रिपोर्ट प्रस्तुत करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *