एकनाथ खडसे के दावे से खुली भाजपा की पोल! ‘कई लोग छोड़ना चाहते हैं BJP’

New Delhi: एनसीपी (NCP) में शामिल होने के बाद शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के पूर्व वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे (Eknath Khadse) ने कहा कि वह बीजेपी को दिखा देंगे कि खडसे क्या चीज है।

उन्होंने (Eknath Khadse) कहा कि जितनी निष्ठा के साथ उन्होंने BJP के लिए काम किया था, उतनी ही निष्ठा से अब वह NCP के लिए काम करेंगे। उन्होंने कहा कि वह दोगुनी क्षमता से अब एनसीपी के विस्तार के लिए काम करेंगे। यही नहीं, एकनाथ खडसे ने यह भी कहा कि कई लोग बीजेपी छोड़ना चाहते हैं लेकिन उन्हें यह कहकर रोक लिया जाता है कि महाराष्ट्र सरकार गिरने वाली है। हालांकि, हकीकत यह है कि सरकार नहीं गिर रही है।

खडसे (Eknath Khadse) ने कहा, ‘मैंने 40 साल तक बीजेपी में राजनीति की है, लेकिन कभी किसी की पीठ में खंजर नहीं घोंपा और न ही कभी किसी महिला का सहारा लेकर वार किया है। जो भी है, वह सीधे आमने-सामने बात करता हूं, लेकिन यहां कुछ लोग महिलाओं का सहारा लेकर वार करते हैं।’

देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) का नाम न लेते हुए उन्होंने (Eknath Khadse) यह आ’रोप उन पर लगाए हैं। एकनाथ खडसे ने एनसीपी जॉइन करने के बाद मंच से कहा कि वह बीजेपी से भी ज्यादा सीटें चुनकर एनसीपी के लिए लाएंगे। खडसे ने कहा, ‘जलगांव जिले में जितने भी जिला परिषद हैं, उनके लिए मैंने बहुत मेहनत की है और यह सब आने वाले समय में एनसीपी की हो जाएंगी।’ खडसे ने कहा, ‘संघर्ष मेरा स्थायी भाव है और इसी संघर्ष के बल पर मैंने बीजेपी में अपनी जगह बनाई।’

‘समर्थकों की इच्छा का सम्मान’

एकनाथ खडसे ने कहा कि अपने लंबे राजनीतिक जीवन में उन्होंने सिर्फ अपने साथ लोग जोड़े हैं। उनसे जुड़े लोग बीजेपी में उनका हो रहा अपमान सहन नहीं कर पा रहे थे। खडसे ने कहा, ‘वह लगातार यह दबाव बना रहे थे कि मैं बीजेपी छोड़कर एनसीपी में शामिल हो जाऊं।’

उन्होंने कहा कि पिछले 6 महीने में उन्होंने अनेक कार्यकर्ताओं शुभचिंतकों, यहां तक कि दिल्ली में बीजेपी के कुछ वरिष्ठ नेताओं से भी चर्चा की। दिल्ली के एक वरिष्ठ शुभचिंतक नेता ने भी उन्हें यही सलाह दी कि बीजेपी में अब उन्हें न्याय नहीं मिलेगा, इसलिए उन्हें एनसीपी जॉइन कर लेनी चाहिए।

‘अंधेरे में शपथ ली, तब एनसीपी अच्छी थी?’

खडसे ने कहा कि उनके एनसीपी में शामिल होने के बाद सवाल उठाए जा रहे हैं कि जिनके विरोध में काम करते थे, उनके साथ कैसे चले गए ? खडसे ने कहा, ‘एनसीपी का विरोध मैं विपक्ष के नेता के तौर पर करता था। लेकिन मैंने कभी भी राजनीति में किसी का व्यक्तिगत विरोध नहीं किया।’ खडसे ने टिप्पणी की, ‘जब अंधेरे में एनसीपी के साथ देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, तब एनसीपी अच्छी थी और अब जब मैं शामिल हो रहा हूं, तो एनसीपी कैसे खराब हो गई।’

‘तुम ईडी लगाओगे, मैं सीडी लगाऊंगा’

खडसे ने कहा कि एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील ने उनसे कहा कि अगर आप एनसीपी में शामिल हुए, तो वह आपके पीछे ईडी लगा देंगे। इसके जवाब में खडसे ने कहा, ‘वो मेरे पीछे ईडी लगाएंगे, तो मैं सीडी लगा दूंगा।’ खडसे ने खुली चुनौती देते हुए कहा कि वह कोई कमजोर नेता नहीं हैं। खडसे ने कहा कि कुछ दिन रुक जाइए, किसने कितनी जमीनें ली हैं, सब पता चल जाएगा। उन्होंने कहा, ‘मैं किसी के खिलाफ बदले की कार्रवाई नहीं करूंगा, लेकिन जो दोषी है, उसे सजा दिलाकर रहूंगा।’

‘कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मा’रा?’

महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री जयंत पाटील ने एकनाथ खडसे का स्वागत करते हुए कहा, ‘उनके (खडसे) साथ उनकी पुरानी पार्टी में अच्छा बर्ताव नहीं किया गया। एकनाथ खडसे के साथ में जब उनकी पार्टी के लोग ऐसा कर रहे थे, तब भी मैंने सभागृह में यह सवाल किया था कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मा’रा इस बात का जवाब मुझे आज तक नहीं मिला है। अब जब एकनाथ खडसे एनसीपी में शामिल हो चुके हैं, तो लोगों को यह जरूर पता चलेगा कि टाइगर अभी जिंदा है।’

‘खडसे के अनुभव का लाभ मिलेगा’

एनसीपी में खडसे का स्वागत करते हुए पार्टी प्रमुख शरद पवार ने कहा, ‘एक समय था, जब जलगांव जिला गांधीवादी विचारों का प्रतिनिधि जिला हुआ करता था, लेकिन खडसे ने वहां एक नई पीढ़ी तैयार की। अब वह एनसीपी के साथ हैं, तो उनके अनुभव, उनके संघर्ष और उनके संपर्कों का लाभ एनसीपी को मिलेगा और जलगांव जिले में एक बार फिर राष्ट्रवादी विचारधारा की पैठ मजबूत होगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *