अयोध्या: CM योगी की मौजूदगी में गूंजा ‘जय श्री राम’, 5.51 लाख दीयों से जगमग हुई राम नगरी

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर (Diwali Celebration in Ayodhya) के पक्ष में फैसला सुनाया था। फैसले के बाद अब मंदिर निर्माण चल रहा है। मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद अयोध्या की यह पहली दीपावली है। इस मौके पर अयोध्या को दुलहन की तरह सजाया गया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath in Ayodhya For Deepotsav) अपने कई सहयोगी मंत्रियों के साथ अयोध्या में दीपोत्सव का कार्यक्रम मनाने पहुंचे हैं। अयोध्या में यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी मौजूद हैं।

राम की नगरी में शुक्रवार को दीपोत्सव के कार्यक्रम से पहले जन्मभूमि में योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम, माता सीता, लक्ष्मण का अभिनय कर रहे पात्रों से भेंट की। इस दौरान उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, मंत्री महेंद्र सिंह ने भगवान राम, लक्ष्मण और माता सीता का आशीर्वाद भी लिया। मंत्रोच्चार के बीच यहां मौजूद सभी लोगों में मंदिर निर्माण की खुशी भी साफ झलक रही है।

‘कोविड-19 में पूरी दुनिया अस्त-व्यस्त’

दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘2020 का यह उत्सव हम सबके सामने ऐसे समय में आया है जब देश भी, दुनिया भी वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रही है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत ने कोरोना के खिलाफ जिस मजबूती के साथ लड़ी है। इसमें पीएम ने देशवासियों से एक ही आह्वान किया है कि हमें कोरोना के खिलाफ भी लड़ना है, प्रत्येक नागरिक को सुरक्षित भी रखना है, कोरोना को हराना भी है। मुझे लगता है कि यह राम राज्य की अवधारणा को चरितार्थ करने वाले पीएम का यह आह्वान को क्रियान्वित करने का इससे अच्छा, पावन दिवस क्या हो सकता है कि जब दीपोत्सव का आयोजन हो और हम सबके इसके प्रतिभागी हों। यह वर्ष हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि पूरी दुनिया कोविड-19 से अस्त-व्यस्त है। भारत भी इससे जूझ रहा है। इसके बावजूद पीएम मोदी के नेतृत्व में यह देश भारत के स्वाभिमान और सम्मान को बनाए रखते हुए, भारत के 135 करोड़ लोगों को सुरक्षित रखते हुए जिस तरह से काम कर रहा है वह अभिनंदनीय है।’

‘…और पीएम मोदी ने दिया स्पष्ट संदेश’

योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘भारत भक्तों की जो तमन्ना थी, वह कार्य पीएम मोदी की वजह से संपन्न हुआ है। यूपीवासियों की ओर से प्रधानमंत्री मोदी का अभिनंदन करता हूं, उनका आभार व्यक्त करता हूं। पांच सदी का वह संकल्प पूरा होते हुए देश और दुनिया देख रही है। मैं विगत वर्ष तक जब भी अयोध्या आता था तो पूज्य संतों और भक्तों का यही आग्रह रहता था कि योगी जी, काम की बात मत करो, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करो। भाइयों-बहनों, भारत माता के लाल पीएम मोदी ने इस संकल्प को पूरा किया है। वह कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अयोध्या धाम पहुंचे। फिर प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण कार्य का शुभारंभ करके पीएम मोदी ने राम राज्य की परिकल्पना को स्पष्ट संदेश दिया।’

राम मंदिर निर्माण स्थल पर इतने दीये

इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने जन्मभूमि पहुंचकर भगवान रामलला की पूजा-अर्चना की। वह शाम को राम की पैड़ी से दीपोत्सव के कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। इस बार सरयू नदी तट पर 5.51 लाख दीये जलाए जाएंगे। अयोध्या में होने वाले दीपोत्सव कार्यक्रम से पहले शोभा यात्रा निकाली गई। इस बार राम मंदिर निर्माण स्थल पर भी 11,000 दीये जलाने की तैयारी की गई है।

‘…तो लगता था गाली दे रहे हैं’

योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘अयोध्या आने में तो लोग संकोच करते थे। एक समय तो ऐसा माहौल बना दिया गया जैसे अयोध्या का नाम लेंगे तो जैसे कोई गाली दे रहा है। जब पहले दीपोत्सव की बात सामने आई तो मेरा मंत्रिमंडल खुश था। अधिकारीगण बोलते थे अयोध्या…तबतक मैं अयोध्या दो-तीन बार होकर आ चुका था। आज हर एक अयोध्या आने को इच्छुक है।’

‘त्योहारों में सावधानी की आवश्यकता’

उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के मद्देनजर त्योहारों में पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश देते हुए कहा है कि दीपावली से लेकर छठ पर्व तक व्यापक सावधानी की आवश्यकता है, क्योंकि इस दौरान लोग आपस में भेंट करते हैं। उन्होंने कहा कि छठ पर्व सामूहिक रूप से संपन्न किया जाता है, इसे देखते हुए जनपद स्तर पर समीक्षा करते हुए संक्रमण नियंत्रण के प्रभावी उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ शुक्रवार को यहां अपने सरकारी आवास पर आयोजित एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव के संबंध में जागरूकता फैलाने के लिए विशेष प्रयास किए जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *