दिल्ली: राजधानी में हमले की थी बड़ी साजिश, पुलिस ने समय रहते दबोच लिए 2 ‘कसाब’

New Delhi: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल (Delhi Police Special Cell) ने सोमवार को जैश-ए-मोहम्मद के दो खूं’खार आतं’कियों को गिर’फ्तार कर दिल्ली पर बड़ी आफत को टालने में सफलता पाई है। दोनों गिरफ्तार आतं’कियों का प्लान मुंबई हमले के गुनहगार अजमल कसाब की तरह सड़कों पर राह चलते लोगों को निशाने बनाने का था।

पुलिस (Delhi Police Special Cell) ने दोनों को दिल्ली के सराय काले खां से गिर’फ्तार किया था। स्पेशल सेल के सूत्रों ने बताया कि दोनों कट्ट’रपंथी आतं’कियों को दिल्ली में बड़ा हम’ला करने का आदेश था। दोनों आतं’कियों को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में आ’त्मघा’ती हमले की ट्रेनिंग दी गई थी।

जानें दोनों आतं’कियों के बारे में

अब्दुल लातिफ मीर (22) नामक संदिग्ध आ’तंकी कश्मीर के बारामुला का रहने वाला है। उसने श्रीनगर से दारुल उलूम बिलालिया शक मदरसा से हाफिज (जिसे कुरान कंठस्थ हो) की शिक्षा ले रखी है। दूसरे संदिग्ध मोहम्मद अशरफ खातना (20) ने भी मीर वाले मदरसे से ही हाफिज की पढ़ाई की है।

दोनों आतं’की सोशल मीडिया के जरिए कट्टरपंथ की तरफ बढ़े। दोनों को पाकिस्तानी हैंडलरों ने कट्टरपंथ की तरफ धकेला। चार महीने पहले दोनों को लाहौर में रहने वाले जैश के रिक्रूटर आफताब मलिक ने एक मैसेंजर ऐप के जरिए संपर्क साधा था। फिर सोशल मीडिया ऐप से फोन पर बात शुरू हुई।

कसाब की तरह था हमले का प्लान

पकड़े गए आतं’कियों के पाकिस्तानी आकाओं ने दोनों को पाकिस्तान आकर आत्मघाती हमले की ट्रेनिंग के लिए बुलाया। हालांकि दोनों तीन बार सीमा पार करने में असफल रहे इसके बाद उन्हें देवबंद में ट्रेनिंग के लिए कहा गया। दोनों कश्मीर छोड़कर यूपी के देवबंद आ रहे थे। इसके बाद उन्हें PoK भेजा जाता। पाकिस्तान में उन्हें दिल्ली की सड़कों पर चल रहे लोगों पर ह’मले को कहा गया था। इसके लिए उन्हें छोटी रेंज के हथियारों के इस्तेमाल को कहा गया था।

आतं’कियों के पास से मिले ये सामान

स्पेशल सेल को आतं’कियों के पास से सीमा पार करने का वीडियो। सीमा पार आकाओ से हमले की योजना बनाने का Audio और जिहादी साहित्य मिला है। स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव ने कहा कि दोनों आतं’की कश्मीर की आजादी और राज्य में आर्टिकल 370 बहाल करने करवाना चाहते थे। दोनों को पूछताछ के लिए तीन दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है।

यूं पकड़ा गया दिल्ली का ‘कसाब’

दरअसल, स्पेशल सेल को एक गुप्त सूचना मिली कि जैश के दो आतं’की दिल्ली आ रहे हैं और फिर वे यूपी जाएंगे। स्पेशल टीम के इंस्पेक्टर मान सिंह को देवबंद के एक सूत्र से जानकारी मिली। इसके बाद सिंह को जानकारी मिली कि जैश को दो आतं’की सराय काले खां आएंगे और फिर वहां से निजामुद्दीन में कुछ देर रुककर देवबंद जाएंगे। आतं’कियों को पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया और फिर उन्हें गिर’फ्तार किया गया। गिर’फ्तार आतं’कियों का रोल माडल मौलाना मसूद अजहर था।