Vaccine 1 1

Corona Vaccine in Delhi: 100 केंद्रों पर टीका, जानें दिल्ली में वैक्सीनेशन की बड़ी बातें

Webvarta Desk: Corona Vaccine in Delhi: राजधानी दिल्ली में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccination) लगाने की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। कोरोना वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ (Covishield) की पहली खेप दिल्ली पहुंच भी चुकी है।

16 जनवरी यानी शनिवार से लोगों को टीका देने (Corona Vaccination) का काम शुरू किया जाएगा। सबसे पहले टीका हेल्थवर्कर्स को दिया जाएगा। दिल्ली में हेल्थकेयर वर्करों को कोविशील्ड वैक्सीन का डोज दिया जाएगा। इस वैक्सीन (Corona Vaccine) को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने मिलकर तैयार किया है।

एक सेंटर पर रोजाना 100 लोगों को लगेगा टीका

एलएनजेपी अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर सुरेश कुमार ने बताया कि हमारे यहां वैक्सीनेशन के तीन सेंटर हैं। हर सेंटर में 9 लोगों की टीम है। इन लोगों को वैक्सीनेशन के लिए अलग से ट्रेनिंग भी दी गई है। डॉक्टर सुरेश ने बताया कि उनके यहां वैक्सीन की डोज शनिवार की सुबह पहुंचेगी और 8 बजे से वैक्सीनेशन शुरू होगा। रोजाना एक सेंटर पर 100 लोगों को वैक्सीनेशन होगा।

सुबह 8 बजे से शुरू होगा वैक्सीनेशन प्रोग्राम

CoWin ऐप के जरिए हेल्थ केयर वर्कर्स को मेसेज मिलेगा। जिसमें उन्हें बताया जाएगा कि उनका वैक्सीनेशन होना है और उसकी टाइमिंग भी बताई जाएगी। वैक्सीनेशन प्रोग्राम सुबह 8 बजे से शुरू हो जाएगा। वैक्सीनेशन सेंटर के गेट पर सुरक्षा गार्ड तैनात होगा। जो हेल्थ केयर वर्कर पहुंचेंगे उनका नाम सूची से मिलान किया जाएगा, अगर उनका नाम होगा तभी उन्हें सेंटर में जाने दिया जाएगा।

साइड इफेक्ट्स को लेकर एसओपी तैयार

गोयल हॉस्पिटल एंड यूरोलॉजी सेंटर के डायरेक्टर डॉ. अनिल गोयल ने बताया है कि वैक्सीनेशन के बाद साइड इफेक्ट्स की संभावना को देखते हुए सरकार ने एसओपी जारी की है। उन्होंने कहा कि हर सेंटर को बड़े टर्शरी केयर सेंटर के साथ कनेक्ट किया गया है, ताकि अगर मेजर साइड इफेक्ट्स होते हैं तो उसे तुरंत बड़े अस्पताल में रेफर किया जा सके। हालांकि डॉक्टर गोयल का कहना है कि ऐसी संभावना नहीं है। लेकिन सरकार ने एहतियात के तौर पर सारी तैयारियां की हैं और इलाज के लिए भी एसओपी दिया है।

वैक्सीन लगने के बाद वॉलंटियर को ऑब्जरेशन रूम में रखा जाएगा

उन्होंने कहा कि वैक्सीन लगने के बाद 30 मिनट तक वॉलंटियर को सेंटर पर ही ऑब्जरेशन रूम में रखा जाएगा। अगर इस दौरान कुछ होता है तो वहां पर ही इलाज दिया जाएगा। अगर किसी को मामूली फीवर या एलर्जी होती है तो इसके लिए कौन-सी मेडिसिन देनी है, यह भी बताया गया है। एलर्जी, फीवर, घबराहट, इंजेक्शन साइट पर दर्द होता है इसका इलाज सेंटर पर किया जाएगा। लेकिन, अगर किसी को सांस लेने जैसी दिक्कत होती है तो ऐसी स्थिति में वॉलंटियर को बड़े अस्पताल में रेफर किया जाएगा।

दिल्ली पहुंच गई भारत बायोटेक की कोवैक्सीन

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे की वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक की वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ की पहली खेप भी दिल्ली पहुंच गई है। हालांकि अबतक जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक हेल्थवर्कर्स को सीरम इंस्टिट्यूट की ‘कोविशील्ड’ वैक्सीन ही लगाई जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *