ऑक्सीजन की बढ़ती मांग देख टोकन राशि पर दी जाएगी पोर्टेबल ऑक्सीजन मशीन

Portable oxygen machine

-होम आइसोलेशन के मरीजों के लिए वरदान, हवा से खींचकर 10 लीटर ऑक्सीजन देगी ये मशीन

अहमदाबाद, 13 अप्रैल (कल्पेश मोदी)। गुजरात में कोरोना के हालात दिन ब दिन बदतर होते जा रहे है। कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी का डर लोगों को सत्ता रहा है। अस्पतालो में ऑक्सीजन की कमी है, ऐसे में घरों में इसकी पूर्ति कैसे हो पाएगी? इस समस्या का समाधान अहमदाबाद में खोज लिया गया है। होम आइसोलेशन में कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए जरूरी मेडिकल ऑक्सीजन सीधी हवा से ली जाएगी, इसके लिए सामाजिक संस्था लायन्स क्लब द्वारा पोर्टेबल ऑक्सीजन मशीन बैंक की शुरुआत की गई है।

लायन्स क्लब द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली इस मशीन द्वारा ऑक्सीजन दी जाएगी। इस मशीन की खासियत यह है कि बिना ऑक्सीजन सिलेंडर के ही मेडिकल ऑक्सीजन मिलती रहेगी। इस मशीन को रिफिल कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये मशीन वातावरण में मौजूद हवा से ऑक्सीजन लेकर मरीज को दस लीटर तक ऑक्सीजन उपलब्ध कराएगी। इस मशीन अरिहंत मेडिको ने निर्माण किया है। अरिहंत मेडिको के प्रमुख दीपेश शाह का कहना है कि हवा में 21 प्रतिशत ऑक्सीजन रहती है ये मशीन उसे कांस्ट्रेट कर 10 लीटर ऑक्सीजन मरीज को देगी।

वहीं लायन्स क्लब गुजरात के प्रसिडेंट परवीन छाजर के मुताबिक इस मशीन को लायन्स क्लब 20 हजार रुपये डिपॉजिट लेकर 100 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से रेंट पर देगा। इसके लिए डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन लाना अनिवार्य होगा। यदि किसी को टेक्नीशियन की मदद लेनी है तो उसका चार्ज अलग देना होगा। वाइप का सौ रुपए का चार्ज भी अलग रहेगा। मुख्य उद्देश्य कोरोना महामारी के दौर में जब अस्पतालों तक में बेड नहीं है, ऑक्सीजन कम पड़ रही है उस समय में लोगों की जिंदगी बचाने में मददरूप होना है। आने वाले दिनों में 1000 मशीन मरीजों को उपलब्ध कराई जाएगी। फिलहाल 100 मशीनों के साथ कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन बैंक की शुरुआत कर दी गई है।