20.1 C
New Delhi
Tuesday, November 28, 2023

कैंसर से जंग जीतने के बाद 70 वर्षीय पिता ने पुत्र को किडनी दान कर दिया नया जीवन

रायपुर, (वेब वार्ता)। दुर्ग जिले के रहने वाले 70 वर्षीय बुजुर्ग ने पहले कैंसर को हराया, फिर 44 वर्षीय बेटे को किडनी दान कर नया जीवनदान दिया है। राजधानी के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डाक्टरों ने किडनी ट्रांसप्लांट किया है। किडनी की बीमारी से काफी वर्षों से युवक पीड़ित था। साथ ही हाइपो पैराथाइरायडिज्म और उच्च रक्तचाप था। डायलिसिस की वजह से कुछ रक्त वाहिनियों में कैल्शियम का जमाव हो गया था।

पीड़ित को क्रिएटनीन स्तर भी उच्च था और मूत्र में रक्त की शिकायत थी। युवक ने दूसरे राज्यों में इलाज कराया लेकिन राहत नहीं मिली थी। एम्स के नेफ्रोलाजी विभाग में पीड़ित गंभीर स्थिति में पहुंचा था। डाक्टरों ने काफी जांच के बाद किडनी ट्रांसप्लांट का निर्णय लिया। रोगी का सितंबर के दूसरे सप्ताह में ट्रांसप्लांट हुआ। पीड़ित को 70 वर्षीय पिता ने किडनी दान की।

पिता की पांच वर्ष पूर्व प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी हुई थी। डाक्टरों ने बताया कि युवक का किडनी ट्रांसप्लांट सबसे अधिक चुनौतीपूर्ण था। युवक के पिता की पहले जांच कराई गई। रिपोर्ट में सक्रिय कैंसर कोशिका न पाए जाने के बाद किडनी ट्रांसप्लांट किया गया। एम्स में इससे पूर्व जगदलपुर के 38 वर्षीय कार मैकेनिक की पत्नी ने किडनी दान की।

रोगी की दो वर्ष से डायलिसिस चल रही थी। इसका अगस्त में आपरेशन किया गया था। दोनों मरीज और किडनीदाता पूरी तरह से स्वस्थ हैं। दोनों किडनी ट्रांसप्लांट टीम में डा. अमित आर शर्मा, डा. दीपक बिस्वाल, डा. सत्यदेव शर्मा, डा. रोहित बड़गे, डा. जितेंद्र शामिल थे।

अब तक दस किडनी प्रत्यारोपण

एम्स में अब तक दस लोगों का किडनी प्रत्यारोपण किया जा चुका है। पहला आपरेशन दिसंबर-22 में किया गया था। कबीरधाम के रहने वाले 27 वर्षीय युवक को उसकी मां की किडनी प्रत्यारोपित की गई थी। पीड़ित को एक सप्ताह तक चिकित्सकों की गहन निगरानी में रखा गया था। एम्स में पहले किडनी ट्रांसप्लांट के समय संजय गांधी पीजी इंस्टीट्यूट, लखनऊ के डाक्टर मदद के लिए आए थे। वर्तमान में एम्स के डाक्टर ही ट्रांसप्लांट कर रहे हैं।

रोगी और किडनी दानदाता पूर्णतः स्वस्थ

युवक का किडनी ट्रांसप्लांट करना काफी चुनौतीपूर्ण था, क्योंकि उसे काफी बीमारियां थी। पिता का भी प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी हुई थी। दोनों रोगी और किडनी दानदाता अब पूर्णतः स्वस्थ हैं।

-डा. विनय राठौर, विभागाध्यक्ष, नेफ्रोलाजी, एम्स

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,156FollowersFollow

Latest Articles