16.1 C
New Delhi
Sunday, November 27, 2022

किसानों को घर बैठे मिल रहा धान बेचने टोकन, बेरोकटोक हो रही है धान खरीदी : ठाकुर

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार चालू खरीफ वर्ष में किसानों को मोटा धान की कीमत 2640 रुपए एवं पतला धान की कीमत 2660 रुपए प्रति क्विंटल दे रही है। छत्तीसगढ़ के अलावा किसी भी अन्य राज्य में किसानों को धान की कीमत इतनी नहीं मिल रही है। 1 नवंबर से धान खरीदी महाअभियान की शुरूआत हुई है। धान बेचने पंजीकृत लगभग 25 लाख 93 हजार किसानों से 110 लाख मैट्रिक टन धान की खरीदी करने का लक्ष्य रखा गया है। 1 नवंबर से अभी तक 262000 किसानों से 8 लाख 67 हजार मैट्रिक टन धान की खरीदी किया जा चुका है। किसानों को 1777 करोड़ रुपए की भुगतान की जा चुकी है। टोकन तुंहर द्वार एप के माध्यम से किसानों को घर बैठे धान बेचने टोकन मिल रहा है। पर्याप्त मात्रा में बारदाना की उपलब्धता करवाई गई है धान बेचने के तुंरत बाद किसानों को भुगतान भी किया जा रहा है।

ठाकुर ने कहा कि 15 साल के रमन सरकार के दौरान 12 से 13 लाख किसान धान बेचने पंजीयन कर आते थे और 7 से 8 लाख किसानों से ही धान की खरीदी होती थी 15 साल में औसत प्रतिवर्ष 50 लाख मीट्रिक टन की धान की खरीदी की गई पूर्व रमन सरकार ने वादानुसार किसानों को धान की कीमत 2100 रु और 300 रु बोनस देने का वादा कर वादाखिलाफी किया गया था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने किसानों का कर्जा माफ किया किसानों की सिंचाई कर्म आपकी सिंचाई के लिए स्थाई पंप कनेक्शन दिया गया और धान की कीमत वादा अनुसार 2500 रु क्विंटल दिया गया इस वर्ष 2640 एवं 2660 रुपए दे रही है और आने वाले दिनों में 2800 रु प्रति क्विंटल धान की कीमत  किसानों को मिल सकता है? कांग्रेस सरकार किसान हितैषी सरकार है छत्तीसगढ़ में कृषि लाभकारी हुआ है धान उत्पादक किसानों की संख्या में ऐतिहासिक वृद्धि हुई है और धान पैदावार का रकबा भी बढा है।

उन्होंने कहा कि किसानों के नाम से राजनीति करने वाली भाजपा हमेशा किसानों के साथ छल और धोखा की है देश के कई राज्यों में भाजपा की सरकार है लेकिन वहां किसानों की हालत खराब है किसान कर्ज में दबे हुए हैं किसानों को उनकी उपज का सही कीमत नहीं मिल रहा है और केंद्र में बैठी मोदी भाजपा की सरकार किसानों के हित के खिलाफ नीति बना रही है कांग्रेस किसान हितैषी सरकार है किसानों के साथ खड़ी हुई है। सरकार धान खरीदी में अपने ही रिकार्ड को तोड़कर नया रिकॉर्ड बना रही है इस वर्ष 110 लाख मिट्रिक टन का लक्ष्य रखा गया है। राज्य में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का रिकार्ड साल दर साल टूट रहा है। बीते साल 97.97 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी का नया रिकार्ड बना है। वर्ष 2021 में 92 लाख मीट्रिक टन धान,  वर्ष 2020 में 83.94 लाख मीट्रिक तथा 2019 में 80.37 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हुई थी।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,122FollowersFollow

Latest Articles