Chhattisgarh News : आलाकमान से नहीं मिला भाव, दिल्ली पहुंचने वाले बघेल समर्थक ज्यादातर विधायक रायपुर लौटे

नई दिल्ली, रायपुर
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समर्थक समझे जाने वाले विधायकों में ज्यादातर विधायक सोमवार को वापस रायपुर लौट गए, जो पिछले दिनों नेतृत्व परिवर्तन की चर्चा के बीच दिल्ली पहुंचे थे और पार्टी नेतृत्व तक अपनी बात पहुंचाने की कोशिश कर रहे थे। सूत्रों ने बताया कि करीब 30 विधायक सोमवार शाम एक विशेष विमान से रायपुर पहुंचे और दिल्ली में मौजूद कुछ अन्य विधायकों के भी जल्द वापस लौटने की संभावना है।


कांग्रेस के ये विधायक पिछले कई दिनों से दिल्ली में जमे हुए थे। ये लोग पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के राज्य के संभावित दौरे के संदर्भ में पार्टी नेतृत्व के समक्ष अपनी बात रखने का प्रयास कर रहे थे। इसके लिए ये लोग कांग्रेस के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया से मुलाकात करना चाह रहे थे।

‘क्या उत्तर प्रदेश जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा की जरूरत है’, प्रियंका गांधी को हिरासत में लेने पर सीएम बघेल ने किया सवाल

रायपुर आने पर पुनिया जी करेंगे बात: विधायक बृहस्पत सिंह
बघेल के समर्थक माने जाने वाले विधायक बृहस्पत सिंह ने बताया, “रविवार रात हमारी बात पुनिया जी से हुई और उन्होंने लखीमपुरी खीरी में हिंसा की घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि अब मुलाकात में विलंब हो सकता है। वह रायपुर के अपने अगले प्रवास में हमसे मुलाकात करेंगे।”

दिल्ली में छत्तीसगढ़ कांग्रेस विधायक बृहस्पत सिंह ने मीडिया से बात करते हुए आज शाम तक 42 विधायक छत्तीसगढ़ लौट जाएंगे। पार्टी ने कहा है कि राहुल गांधी जी जब राज्य का दौरा करेंगे तो उनके साथ एक बैठक की व्यवस्था की जाएगी।

उन्होंने एक बार फिर कहा कि राज्य में नेतृत्व परिवर्तन का दूर-दूर तक कोई सवाल नहीं है और बघेल की अगुवाई में ही पांच साल सरकार चलेगी।

भूपेश बघेल को लखनऊ में उतरने की इजाजत नहीं, पूछा- यूपी जाने के लिए वीजा लेना पड़ेगा?

बघेल सरकार के ढाई साल पूरे होने पर नेतृत्व बदलाव की चर्चा
छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल सरकार के ढाई साल पूरे होने के बाद से लगातार चर्चा है कि मुख्यमंत्री पद ढाई-ढाई वर्ष तक बघेल और फिर राज्य के वरिष्ठ नेता एवं स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव को देने की बात हुई थी। ऐसे में ये विधायक बुधवार को दिल्ली पहुंचे थे। इधर बघेल ने विधायकों के दिल्ली दौरे को लेकर कहा था कि इसे राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए।