यूपी में बैठकर एक तीर से कई निशाने साध रहे छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, पहले आलाकमान से नजदीकी दिखाई, अब किसानों से हमदर्दी

हाइलाइट्स

  • लखीमपुर खीरी में मृत किसानों के परिवारों को सहायता राशि देगी छत्तीसगढ़ सरकार
  • सीएम भूपेश बघेल ने पीड़ित परिवारों को 50-50 लाख रुपये देने का किया ऐलान
  • यूपी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ पर्यवेक्षक बनाए गए हैं बघेल

रायपुर/लखनऊ
Lakhimpur Kheri Latest News : छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chhattisgarh CM Bhupesh Baghel) फिलहाल उत्तर प्रदेश में हैं। लखीमपुर खीरी कांड के विरोध में मंगलवार को यूपी पहुंचे बघेल को पुलिस ने लखनऊ एयरपोर्ट पर रोक दिया था, लेकिन वे वहीं जमे रहे। बुधवार को यूपी सरकार ने विपक्षी नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत दे दी और अब बघेल भी राहुल और प्रियंका गांधी के साथ वहां जा सकते हैं। इस तरह कांग्रेस आलाकमान के साथ अपनी निकटता दिखाने के बाद अब उन्होंने नया दांव चला है। बघेल (Baghel announces compensation for farmers) ने लखीमपुर में मारे गए किसानों के परिवारों को 50-50 लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है।

बुधवार को लखनऊ में बघेल ने कहा कि पीड़ित किसान परिवारों के साथ पूरा हिंदुस्तान खड़ा है। छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से प्रत्येक पीड़ित किसानों के परिवार को 50 लाख रुपये और पीड़ित पत्रकार के परिवार को भी 50 लाख रुपये दिए जाएंगे।

बघेल को हाल में ही यूपी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने वरिष्ठ पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। वे पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी की मदद करेंगे। लखीमपुर खीरी कांड का विरोध कर रहे विपक्षी नेताओं के बीच प्रियंका सबसे मुखर रही हैं। बघेल इस घोषणा के जरिये किसानों के प्रति हमदर्दी जताकर यूपी से लेकर छत्तीसगढ़ तक कांग्रेस के लिए राजनीतिक जमीन तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं।

यूपी में अगले साल फरवरी-मार्च में विधानसभा के चुनाव होने हैं। चुनावों में मुख्य मुकाबला बीजेपी और सपा के बीच है, लेकिन प्रियंका गांधी के जरिये कांग्रेस भी मुकाबले में आने का प्रयास कर रही है। लखीमपुर खीरी कांड में उसे अपने लिए संभावनाएं नजर आ रही हैं। इसीलिए प्रियंका के साथ राहुल गांधी और कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी वहां पहुंच रहे हैं। कांग्रेस कृषि कानूनों को लेकर बीजेपी के खिलाफ पहले से लामबंद हो रहे किसानों के साथ खड़े होने में अपनी पूरी ताकत लगा रही है। पार्टी को लग रहा है कि इससे आने वाले चुनावों में किसानों का एक बड़ा हिस्सा उसके साथ आ सकता है।

navbharat timesLakhimpur Kheri News : कांग्रेस में प्रियंका-राहुल गांधी से नजदीकी दिखाने की होड़, सिंहदेव बैठे रहे, भूपेश पहुंच गए लखनऊ
बघेल की यह घोषणा छत्तीसगढ़ के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है। वे पहले भी कई बार खुद को किसान मुख्यमंत्री बता चुके हैं। राज्य में धान की खरीदी और खाद की कमी जैसी समस्याओं के लिए वे बीजेपी को जिम्मेदार बताते रहे हैं। इस घोषणा के जरिये वे एक बार फिर यह जताने की कोशिश कर रहे हैं कि किसानों की असली हमदर्द कांग्रेस ही है।

baghel1