Haryana Farmer Protests

हरियाणा की सड़कों पर उतरे हजारों किसान, मोदी सरकार के किस फैसले का विरोध, यहां जानें

New Delhi: कें‍द्र सरकार (Modi Govt) के 3 कृषि अध्यादेशों (Cabinet ordinance on Farmers) को किसान विरो’धी बताते हुए भारतीय किसान संघ (Bharatiya Kisan Sangh) और अन्य किसान संगठनों ने गुरुवार को हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले के पिपली में राष्ट्रीय राजमार्ग को अवरुद्ध (Haryana Farmer Protests) कर दिया। भारतीय किसान संघ ने दावा किया कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर ला’ठीचा’र्ज किया।

दरअसल हरियाणा में सड़क पर उतरे किसान (Haryana Farmer Protests) केंद्र सरकार (Modi Govt) के उन तीन अध्यादेशों (Cabinet ordinance on Farmers) का विरो’ध कर रहे हैं, जो कि मंडियों और किसानों से जुड़े हुए हैं। केंद्र सरकार ने तीन अध्यादेशों के जरिए फसलों के खरीद संबंधी नए नियम बनाए हैं, जिससे किसान ना’राज हैं।

किन अध्यादेशों का विरोध?

पहले अध्यादेश (Cabinet ordinance on Farmers) के अनुसार, अब व्यापारी मंडी से बाहर भी किसानों की फसल खरीद सकेंगे। पहले किसानों की फसल को सिर्फ मंडी से ही खरीदा जा सकता था। वहीं केंद्र ने अब दाल, आलू, प्याज, अनाज, इडेबल ऑयल आदि को आवश्यक वस्तु के नियम से बाहर कर इसकी स्टॉक सीमा खत्म कर दी है। इन दोनों के अलावा केंद्र सरकार ने कॉन्ट्रैक्ट फॉर्मिंग (Contarct Farming) को बढ़ावा देने की भी नीति पर काम शुरू किया है, जिससे किसान ना’राज हैं।

प्रदर्शनकारी और पुलिस के बीच झड़प

गुरुवार को इन्हीं मुद्दों पर किसानों ने जमकर नारेबाजी और प्रदर्शन (Haryana Farmer Protests) किए। कुरुक्षेत्र की पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग को अ’वरु’द्ध कर दिया।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘सैकड़ों किसान पिपली चौक तक पहुंचे और पुलिसकर्मियों पर प’थरा’व किया।’ उन्होंने कहा कि किसानों ने वहां खड़ी दमकल की गाड़ी के खिड़की के शीशे भी तोड़ दिए। अधिकारी ने कहा कि भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने ला’ठीचा’र्ज का सहारा लिया। बाद में, प्रदर्शनकारी यातायात रोकने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 22 पर धरने पर बैठ गए।

कई वाहनों से पहुंचे किसान

‘किसान बचाओ, मंडी बचाओ’ (Kisan Bachao Mandi Bachao) रैली के लिये किसानों को पिपली अनाज मंडी में पहुंचने से रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा की गई कड़ी व्यवस्था के बावजूद कई किसान वहां पहुंचने में कामयाब रहे। कुरुक्षेत्र शहर में दयालपुर चौराहे पर लगाए गए पुलिस बैरियर को तोड़ते हुए ट्रैक्टर और अन्य वाहनों पर सवार लगभग सौ किसानों ने पिपली की ओर प्रस्थान किया।

कांग्रेस के नेताओं ने भी किसानों के साथ किए प्रदर्शन

समूह का नेतृत्व कर रहे किसान नेता अक्षय हाथीरा ने मीडिया को बताया कि राज्य सरकार रैली (Haryana Farmer Protests) को प्रतिबंधित करके और सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाकर किसानों की आवाज को रोकने की कोशिश कर रही थी। इस बीच, पिपली मंडी और इसके आसपास के इलाकों को पुलिस ने सील कर दिया।

कांग्रेस नेता अशोक अरोड़ा और लाडवा के कांग्रेस विधायक मेवा सिंह अपने समर्थकों के साथ पिपली मंडी के बाहर पहुंचे और पुलिस द्वारा रोकने पर वे सड़क पर बैठ गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *