Webvarta Desk: उत्तर प्रदेश के वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिर्वतन राज्यमंत्री अनिल शर्मा की अध्यक्षता में प्रभागीय निदेशक, वानिकी विभाग बुलंदशहर (डीएफओ) श्री गौतम सिंह की देखरेख में अपर गंग नहर वलीपुरा पर विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया।

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर माननीय मंत्री जी द्वारा मौलश्री का पौधा रोपित किया गया, साथ ही उपस्थित अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा पीपल, पाकड़, बरगद, कंजी आदि के पौधों का रोपण किया गया।

इस खास मौके पर माननीय मंत्री ने अपने संबोधन में कहा, ‘विश्व पर्यावरण दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों को हर वर्ष पर्यावरण में हो रहे बदलाव से अवगत कराना और पर्यावरण संतुलन बनाए रखने के लिए समय-समय जागरूक करना है।’

अपने संबोधन में अनिल शर्मा ने आगे कहा, ‘वर्तमान परिवेश में प्रदूषण काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है, प्रदूषण बढ़ने से वातावरण में ऑक्सीजन की कमी हो रही है, तापमान बढ़ रहा है, वर्षा कम हो रही है जो मानव जीवन ही नहीं समस्त प्राणी जगत के लिए खतरा है। जिससे लिए कई गंभीर बीमारियां हो रही हैं, कई जीव जन्तु विलुप्त हो रहे हैं।’

शर्मा जी ने संवाद जारी रखते हुए कहा, ‘विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम – पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली (Eco System Restoration) है। जंगलों को सुरक्षित रखकर अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाकर, बारिश के पानी को संरक्षित करके और तालाबों का निर्माण करके हम पारिस्थितिकी तंत्र को फिर से रीस्टोर कर सकते हैं।’

अपने संबोधन का समापन करते हुए मंत्री जी ने कहा, ‘सभी लोगों से अनुरोध है कि अधिक से अधिक पौधे लगाएं, वर्षा के पानी का तालाबों में संचमन करें, खेतों में बचें अपशिष्ट को न जलाएं, बल्कि उससे खाद बनाएं। आओ हम सभी विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर शपथ लें कि ”हम पर्यावरण को प्रदूषित नहीं करेंगे और पारिस्थितिकी तंत्र को फिर से बहाल करने का पूर्ण प्रयास करेंगे।”