Positive News: बिहार के युवा आईएएस टीम की अनोखी पहल, गांव के गरीब बच्चों को दे रहे हैं मुफ्त एजुकेशन

photo 87015323

गोपालगंज
बिहार के कुछ ऐसे युवा आईएस की एक ऐसी टीम है। जो ग्रामीण इलाकों में बच्चों के बीच शिक्षा का अलख जगा रहे हैं। ये आईएएस अपनी ड्यूटी से हटकर थोड़ा समय आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के बीच व्यतीत करते हैं। उन्हें अलग तरीके से पढ़ाने की कोशिश करते हैं। वे मेधावी बच्चो में उनके सपनों को कैसे पूरा करें इसके लिए प्रेरित करते हैं।

IAS अधिकारियों ने बनाई टीमइस टीम में समस्तीपुर के आईएएस संतोष कुमार, गोपालगंज के आईआरटीएस विजय कुमार शामिल है। दोनों पदाधिकारी 2014 बैच के आईएएस है। युवा आईएएस सन्तोष कुमार आगमूट कैडर के सचिव के पद के अधिकारी है। जबकि विजय कुमार एनई रेलवे में सीओएम के पद पर तैनात है। आईएएस संतोष कुमार के मुताबिक वे और उनके दोस्त विजय कुमार ने मिलकर एम पाठशाला खोली है। इस एम पाठशाला में वैसे ग्रामीण इलाकों के आर्थिक रूप से कमजोर मेधावी छात्रों को मुफ्त शिक्षा दी जाती है। ताकि उनकी प्रतिभा कुंठित ना हो।

बिहार में हुनर, बस गाइडेंस की जरुरत- संतोष कुमारसंतोष कुमार ने कहा कि बिहार के गोपालगंज, समस्तीपुर और औरंगाबाद में आईएएस ऑफिसर मिलकर एम पाठशाला चलाते हैं। इस पाठशाला में ग्रामीण परिवेश में आर्थिक रूप से कमजोर निर्धन बच्चों का एडमिशन लिया जाता है। उन्हें मुक्त शिक्षा दी जाती है। और समय-समय पर वे खुद पहुंचकर इन बच्चों को पढ़ाई के बेहतर गुरु सिखाते हैं। संतोष कुमार ने कहा कि बिहार के छात्र प्रतिभावान है। बस उन्हें गाइडेंस की जरूरत है। और बेहतर गाइडेंस मिलने से बच्चे ना सिर्फ अपने क्लास में बेहतर करेंगे। बल्कि वे भविष्य को लेकर भी बचपन से ही तैयारी करेंगे।

अधिकारियों की पहल से गांव में बेहतर माहौलइन आईएएस अधिकारियों के क्लासेस से बच्चे भी लाभान्वित हो रहे हैं। बच्चे बचपन से ही अपने एम को लेकर टारगेट कर रहे हैं। मांझागढ़ प्रखंड के पिठौरी गांव की छात्रा ऋतु यादव के मुताबिक वह भी एम पाठशाला में पढ़ने आती है। आईएएस संतोष सर के गाइडेन्स के बाद उसने अभी से ही सिविल सर्विसेज की पढ़ाई को लेकर फोकस किया है। बहरहाल अधिकारियों की इस पहल से ग्रामीण इलाकों में भी शिक्षा का बेहतर माहौल बन रहा है।