Mewalal Choudhary : फजीहत के बाद ‘घोटालेबाज’ मंत्री मेवालाल सीएम आवास तलब, क्या हुआ किसी को नहीं पता… देखिए एक्सक्लूसिव तस्वीर

पटना:
विपक्ष के लगातार हमलों को झेल रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आखिरकार अपनी कैबिनेट के घोटालेबाज मंत्री को तलब कर ही लिया। सीएम नीतीश कुमार से मेवालाल चौधरी की करीब आधे घंटे बातचीत हुई। इसके बाद एनबीटी की टीम ने मेवालाल चौधरी के मोबाइल पर भी संपर्क किया लेकिन उधर से कोई जवाब नहीं मिला।

बुधवार की शाम सीएम आवास पहुंचे मेवालाल
बुधवार की शाम मुख्यमंत्री आवास यानि एक अणे मार्ग में एक सफेद टोयोटा एसयूवी तेजी से घुसी। आगे शिक्षामंत्री का बोर्ड लगा हुआ था, एकदम चकाचक नया। गाड़ी में स्वयं माननीय शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी थे। गाड़ी सीधे अंदर चली गई और करीब आधे घंटे बाद बाहर आई। इस आधे घंटे के दरमियान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और मेवालाल चौधरी के बीच लंबी बातचीत हुई लेकिन अभी तक ये पता नहीं चल पा रहा है कि मुलाकात में बात क्या हुई। आपको बता दें कि मेवालाल चौधरी पर सबौर विश्वविद्यालय का कुलपति रहते हुए नियुक्ति घोटाले में मामला दर्ज हुआ था। ये केस भागलपुर ADG 1 के पास विचाराधीन है और फिलहाल चार्जशीट का इंतजार किया जा रहा है। ये लेकिन तब तक एक फोटो कैमरे में कैद हो गई। देखिए ये तस्वीर

mewalal nbt.

शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी की गाड़ी

बिहार में चुनकर आए नए विधायकों में से 81 प्रतिशत करोड़पति, टॉप पर हैं ‘छोटे सरकार’ अनंत सिंह

मंत्री की पत्नी की मौत का मामला भी तूल पकड़ रहा

बिहार में नीतीश कुमार की कैबिनेट में डॉक्टर मेवालाल चौधरी (Mewalaal Chaudhary) को शिक्षामंत्री का पद मिलने के बाद से उनके खिलाफ सारे केस सामने आने शुरू हो गए हैं। भर्ती घोटाला में आरोपी होने का मामला सामने आने के बाद अब मेवालाल चौधरी का नाम पत्नी की मौत मामले में उलझता दिख रहा है। डॉ मेवालाल चौधरी के मंत्री पद की शपथ लेते ही उनकी पत्नी नीता चौधरी के मौत की भी एक बार फिर से जांच कि मांग होने लगी है। सोशल मीडिया पर पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ दास की कथित रूप से लिखी हुई चिट्ठी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें उनके द्वारा डीजीपी से मेवालाल चौधरी की पत्नी की मौत मामले में भी उनसे पूछताछ की मांग की गई है। मेवालाल की पत्नी स्वर्गीय नीता चौधरी 2010 से 2015 तक तारापुर से विधायक रही थी। वह राजनीति में काफी सक्रिय थीं। 2019 में रसोई गैस सिलिंडर में आग लगने से वह झुलस गई थी और इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। देखिए आईपीएस अमिताभ दास की वो चिट्ठी जो 17 नवंबर को लिखी गई है।

WhatsApp Image 2020-11-18 at 9.01.05 PM.

मेवालाल पर लालू समेत पूरी RJD कर रही है हमले
बिहार में नीतीश कुमार की अगुवाई में बनी एनडीए की सरकार में भर्ती घोटाला के आरोपी मेवालाल चौधरी को शिक्षामंत्री बनाए जाने पर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने इस मुद्दे को उछाला है। लालू प्रसाद यादव के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया है, ‘तेजस्वी जहां पहली कैबिनेट में पहली कलम से 10 लाख नौकरियां देने को प्रतिबद्ध था वहीं नीतीश ने पहली कैबिनेट में नियुक्ति घोटाला करने वाले मेवालाल को मंत्री बना अपनी प्राथमिकता बता दिया। विडंबना देखिए जो भाजपाई कल तक मेवालाल को खोज रहे थे आज मेवा मिलने पर मौन धारण किए हैं।’
बिहार के शिक्षामंत्री को नहीं आता है राष्ट्रगान! आरजेडी ने ट्वीट किया वीडियो

आरजेडी के ट्विटर हैंडल से किए गए एक और ट्वीट में मेवालाला चौधरी को गलत राष्ट्रगान गाते हुए दिखाया गया है। इस ट्वीट में लिखा गया है, ‘भ्रष्टाचार के अनेक मामलों के आरोपी बिहार के शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी को राष्ट्रगान भी नहीं आता।नीतीश कुमार जी शर्म बची है क्या? अंतरात्मा कहां डुबा दी?’

मंत्री मेवालाल पर ये आरोप
मालूम हो कि मेवालाल चौधरी 2015 में पहली बार जेडीयू विधायक बने थे जबकि, इससे पहले तक वो शिक्षक के तौर पर सेवा दे रहे थे। उनके कुलपति रहते कृषि विश्वविद्यालय में साल 2012 में सहायक प्राध्यापक और जूनियर वैज्ञानिकों की बहाली हुई थी बताया जाता है कि उस नियुक्ति में धांधली की गई थी। कृषि विश्वविद्यालय में नियुक्ति घोटाले का मामला सबौर थाने में 2017 में दर्ज किया गया था। हालांकि इस मामले में उन्होंने कोर्ट से अग्रिम जमानत मिल गई थी और अभी तक कोर्ट में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल नहीं किय्या गया है।