पेट्रोल-डीजल को जीएसटी दायरे में लाना ठीक नहीं : सुशील कुमार मोदी

Sushil Kumar Modi

पटना, 16 सितंबर (वेब वार्ता)। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने आज कहा कि पेट्रोल और डीजल को अभी वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाना ठीक नहीं है और इससे 4.10 लाख करोड़ रुपए की राजस्व हानि होगी इसलिए बिहार समेत अन्य राज्यों का इसका विरोध करना चाहिए।

श्री मोदी ने गुरुवार को सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर ट्वीट कर कहा कि पेट्रोल-डीजल को यदि जीएसटी के दायरे में लाया गया तो इन वस्तुओं पर कर 75 प्रतिशत से घटाकर 28 प्रतिशत करना पड़ेगा। इससे केन्द्र और राज्य सरकारों को 4.10 लाख करोड़ रुपए के राजस्व से वंचित होना पड़ेगा। इसमें डीजल से 1.10 लाख करोड़ रुपए और पेट्रोल से तीन लाख करोड़ रुपए की राजस्व हानि होगी।

भाजपा सांसद ने कहा कि कोविड काल में सरकार इतनी बड़ी राशि की भरपाई नहीं कर पाएगी, जिससे विकास कार्य प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा कि बिहार सहित अन्य राज्यों को राजस्व की वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने के विचार का विरोध करना चाहिए।

श्री मोदी ने कहा कि जीएसटी परिषद जब इस मुद्दे पर केरल उच्च न्यायालय के निर्देश पर विचार करने वाली है, तब राज्यों को अपनी बात मजबूती से रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 60 करोड़ लोगों के टीकाकरण, 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन और अर्थव्यवस्था को कुछ बड़े राहत पैकेज देने जैसे फैसलों से राजस्व संसाधन पर जो दबाव बढा, उसे ध्यान में रखते हुए पेट्रोल-डीजल को जीएसटी दायरे में लाने का विचार टालना ही उचित होगा। उन्होंने कहा कि विपक्ष इस मुद्दे पर केवल राजनीतिक बयानबाजी कर रहा है।