Bihar Byelection 2021 : कांग्रेस-आरजेडी में आखिरकार खिंच ही गई तलवार, भक्त चरण दास की तेजस्वी को बड़ी चेतावनी

हाइलाइट्स

  • कांग्रेस-आरजेडी में आखिरकार खिंच ही गई तलवार
  • भक्त चरण दास की तेजस्वी को बड़ी चेतावनी
  • तेजस्वी को ‘भक्त’ की खरी-खरी
  • ‘जल्द साफ होगा- कांग्रेस महागठबंधन में रहेगी या नहीं?’

पटना
तेजस्वी ने जिन भक्त चरण दास को बिहार विधानसभा उप चुनाव से पहले आरजेडी के उम्मीदवारों की जानकारी देने का दावा किया था, अब वही भक्त तेजस्वी को चेतावनी दे चुके हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, भक्त चरण दास ने भविष्य में कांग्रेस के महागठबंधन में रहने या न रहने पर भी बड़ा बयान दे दिया है।

तेजस्वी को ‘भक्त’ की खरी-खरी
राजधानी पटना पहुंचे कांग्रेस के प्रभारी भक्त चरण दास ने बिहार विधानसभा उपचुनाव को लेकर राष्ट्रीय जनता दल और तेजस्वी यादव के ऊपर बड़ा हमला किया है। भक्त चरण दास ने दो टूक कह दिया है कि तारापुर और कुशेश्वरस्थान विधानसभा सीट उपचुनाव में तेजस्वी यादव ने बिना सोचे समझे अपने उम्मीदवार को उतारा है। इसके साथ-साथ उन्होंने राजद के साथ भविष्य में गठबंधन को लेकर भी बड़ा बयान दिया है।
navbharat timesExclusive : सोनिया-राहुल की नाक के नीचे बिहार कांग्रेस में चल रहा बड़ा खेल… पढ़िए एक्सक्लूसिव खबर
कांग्रेस ही जीतेगी चुनाव- भक्त चरण दास
भक्त चरण दास ने आरजेडी से साफ कहा है कि कुशेश्वरस्थान विधानसभा सीट पर हमारा उम्मीदवार होगा और हर हाल में हम चुनाव जीतेंगे। बता दे की तेजस्वी यादव लगातार यह कहते रहे कि दोनों सीटों पर आरजेडी के उम्मीदवार होंगे। जिसके ऊपर भी भक्त चरण दास ने तेजस्वी को बड़ी नसीहत दी हैं। भक्त चरण दास ने कहा कि तेजस्वी यादव ने जल्दबाजी में बिना सोचे समझे दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी।

‘जल्द साफ होगा- कांग्रेस महागठबंधन में रहेगी या नहीं?
इसके साथ साथ भक्त चरण दास ने कहा कि ‘जिस तरह से आरजेडी काम कर रहा है उससे महागठबंधन कमजोर होगा। राष्ट्रीय जनता दल को समझना चाहिए कि कांग्रेस को कमजोर करने से उसे ही नुकसान होगा। कांग्रेस एक राष्ट्रीय पार्टी है और हम अपने अस्तित्व को नहीं खत्म कर सकते हैं।

तेजस्वी बोले- भक्त चरण दास को पहले ही बता दिया था, तो क्या दिखावे के लिए कांग्रेस-आरजेडी में फाइट?

इसके साथ साथ भक्त चरण दास ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि ‘अब जल्द यह भी साफ हो जाएगा कि कांग्रेस महागठबंधन में रहेगा या नहीं।’ इस बयान को एक तरह से खासतौर पर तेजस्वी यादव को कांग्रेस की ओर से बड़ी चेतावनी माना जा रहा है।