27.1 C
New Delhi
Thursday, September 29, 2022

Bharat Jodo Yatra: भारत जोड़ो यात्रा के जरिए राजस्थान के 6 जिलों में जाएंगे राहुल गांधी, चुनिंदा नेता ही होंगे साथ

वेबवार्ता: राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) राजस्थान में करीब 500 किलोमीटर का सफर तय करेगी। कांग्रेस कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा निकाल रही है। इसमें राजस्थान को भी शामिल किया गया है। चुनावी साल से पहले छह जिलों से होकर गुजरने वाली इस यात्रा को सियासी मायनों के हिसाब से काफी अहम माना जा रहा है।

राजस्थान में यह यात्रा (Bharat Jodo Yatra) झालावाड़ से शुरू होकर कुल 6 जिलों से गुजरेगी। इस यात्रा से चुनाव से पहले राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को राजस्थान में पार्टी की ग्राउंड रियलिटी को भी देखने का मौका मिलेगा। अक्टूबर-नवंबर में यह यात्रा राजस्थान पहुंचेगी।

राहुल गांधी की इस यात्रा में राजस्थान से चुनिंदा नेता ही शामिल होंगे। यात्रा के रूट में हर दिन सभाएं और नुक्कड़ मीटिंग्स होंगी। इनमें राहुल गांधी के भाषण होंगे। भारत जोड़ो यात्रा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट, प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सहित अन्य नेता शामिल होंगे। राजस्थान में आपदा राहत मंत्री गोविंद मेघवाल को यात्रा के कॉर्डिनेशन की जिम्मेदारी दी गई है। इस यात्रा में स्थानीय लोगों से राहुल खुद बात करेंगे। पार्टी के ग्राासरूट वर्कर के मन की बात भी जानेंगे।

ईआरसीपी वाले जिले कवर होंगे

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में ईस्टर्न राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट (ERCP) वाले जिले कवर हो रहे हैं। यात्रा के दौरान होने वाली सभाओं में कांग्रेस के स्थानीय नेता ईआरसीपी का मुद्दा उठाएंगे। झालावाड़, कोटा, बूंदी, दौसा में सभाओं में इस इश्यू को प्रमुखता से उठाया जाएगा।

राजस्थान में किन नेताओं की अहमियत, यात्रा से मिलेंगे संकेत

राहुल गांधी की यात्रा में राजस्थान कांग्रेस की सियासत के चेहरों को लेकर कई संकेत मिलेंगे। राजनीतिक जानकारों के मुताबिक इस यात्रा से राजस्थान में कांग्रेस के चेहरों को लेकर संकेत मिल जाएंगे। राहुल गांधी की यात्रा के दौरान राजस्थान में किन नेताओं को साथ चलने की अनुमति मिलती है। इससे भविष्य के लिए सियासी आकलन हो जाएगा। जिन नेताओं को इस यात्रा में साथ रखा जाएगा, उन्हें अहमियत मिलेगी। उससे ही आगे चेहरे तय होंगे। इस यात्रा से राजस्थान कांग्रेस में राहुल के चहेते चेहरों पर तस्वीर साफ हो जाएगी।

यात्रा के सियासी मायने, राहुल गांधी खुद देखेंगे ग्राउंड रियलिटी

भारत जोड़ो यात्रा 12 राज्यों से होकर गुजर रही है। अभी तक के कार्यक्रम के हिसाब से राहुल गांधी पूरे समय यात्रा में रहेंगे। राजस्थान में अगले साल नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव हैं। उससे पहले इस यात्रा से सियासी माहौल का अनुमान लग जाएगा। ग्राउंड का सियासी माहौल और पार्टी की हालत के बारे में भी उन्हें खुद रूबरू होने का मौका मिलेगा। यह दूसरे माध्यम से नहीं मिल पाता है। राजस्थान में ग्राउंड कनेक्ट के हिसाब से भी इसे अहम माना जा रहा है। यात्रा में कौन नेता शामिल होंगे और क्या आयोजन होंगे, इसका फैसला कमेटी करेगी।

जिस रूट से यात्रा गुजरेगी, उसके कुछ हिस्से में विधानसभा चुनाव में हो चुका रोड शो

राजस्थान में जिस रूट से राहुल गांधी की यात्रा गुजरेगी, उसके कुछ हिस्से में पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान राहुल गांधी ने रोड शो किया था। उन्होंने पिछले विधानसभा चुनाव में झालावाड़ से कोटा और धौलपुर के मनिया से दौसा के महुवा तक मेगा रोड शो किया था। इस बार रूट में झालावाड़, कोटा और दौसा आ रहे हैं। पूर्वी राजस्थान में पिछले चुनावों में कांग्रेस मजबूत हालत में थी, लेकिन पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के क्षेत्र झालावाड़ में पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली थी।

डोटासरा बोले- भारत जोड़ो यात्रा से मिलेगा बूस्ट

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, ‘भारत जोड़ो यात्रा देश को एक करने की मुहिम है। राजस्थान के दक्षिणी और पूर्वी जिलों को कवर करते हुए यह यात्रा गुजरेगी। इस यात्रा में सभाएं भी होंगी। इससे प्रदेश में पार्टी को नया बूस्ट मिलेगा। यात्रा का डिटेल प्रोग्राम आना अभी बाकी है, कार्यकर्ताओं में इसे लेकर उत्साह है। इस यात्रा से पूरे देश में एक मैसेज जाएगा।’

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,125FollowersFollow

Latest Articles