Shirdi-Sai

साईं जन्मस्थान : उद्धव के बयान से बढ़ा विवाद, शिरडी आज बंद, सड़कों पर सन्नाटा

Shirdi : महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना के चीफ उद्धव ठाकरे की ओर से साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर दिए गए बयान पर विवाद थमता नहीं दिख रहा है। रविवार को शिरडी के बाजार पूरी तरह बंद रहे और सड़कों पर वाहन तक नहीं दिखे। इस बीच शिरडी के शिवसेना सांसद सदाशिव लोखंडे ने भी बंद को अपना समर्थन दिया है।

क्या है विवाद?

बता दें कि परभणी जिले के पथरी को साईं बाबा का जन्मस्थान बताते हुए सीएम उद्धव ठाकरे ने ‘साईं जन्मस्थान’ के विकास के लिए 100 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की थी। तब से ही 19वीं सदी के संत साईं बाबा के समर्थकों में गुस्सा देखा जा रहा है। साईं बाबा के अनुयायियों का कहना है कि सीएम उद्धव ठाकरे को अपना बयान वापस लेना चाहिए।

इस बीच पूरे विवाद के चलते सीएम उद्धव ठाकरे बैकफुट पर दिख रहे हैं। सोमवार को इस विवाद पर चर्चा के लिए उन्होंने मुंबई में सचिवालय में मीटिंग बुलाई है। शिरडी साईं मंदिर ट्रंस्ट से जुड़े लोगों और अहमदनगर जिले के अधिकारियों ने बताया कि रविवार सुबह से ही बाजार बंद थे, लेकिन भक्तों को मंदिर परिसर के अंदर जाने और दर्शन करने करने की अनुमति थी।

शिवसेना MP बोले, साईं भक्त पहले, सांसद बाद में

यही नहीं मंदिर का किचन ‘प्रसादालय’ भी खुला हुआ था ताकि साईं भक्तों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो। बंद के बावजूद मंदिर में श्रद्धालुओं की अच्छी खासी संख्या थी और प्रसादालय में भी लंबी कतारें देखने को मिलीं। शिरडी के बंद का समर्थन करते हुए शिवसेना के सांसद सदाशिव लोखंडे ने कहा, ‘मैं पहले साईं का भक्त हूं और बाद में सांसद हूं। मैं इस प्रदर्शन का समर्थन करता हूं। साईं बाबा उस वक्त शिरडी आए थे, जब वह 16 साल के थे। उन्होंने कभी अपने धर्म या जाति का खुलासा नहीं किया। इसलिए उन्हें इन सब चीजों में नहीं बांटना चाहिए। मैं इस मुद्दे पर सीएम उद्धव ठाकरे से बात करने जा रहा हूं।’

प्राचीन भारत का गांव स्वाधीन था लेकिन अब पराधीन हो गया : डॉ. भगवान लाल साहनी

साईं भक्तों ने रैली निकाल किया उद्धव के बयान का विरोध

लोखंडे ने कहा कि मैं यह देखता हूं कि कैसे इस मसले को सुलझाया जा सकता है और बंद को खत्म किया जा सकता है। इससे पहले सुबह ठाकरे के बयान के विरोध में बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों ने मंदिर परिसर के पास रैली निकाली। रैली में शामिल रहे स्थानीय बीजेपी नेता सचिन तंबे पाटिल ने कहा कि साईं भक्तों ने द्वारका माई मंदिर से रैली की शुरुआत की थी और साईं बाबा मंदिर परिसर का पूरा चक्कर लगाने के बाद वहीं पर रैली का समापन किया गया।

बीजेपी नेता का दावा, सफल रहा बंद

स्थानीय बीजेपी पदाधिकारी सचिन तांबे पाटिल ने बंद को सफल करार दते हुए कहा, ‘व्यावसायिक प्रतिष्ठान, दुकानें, भोजनालय और स्थानीय परिवहन सेवाएं बंद रहीं और शहर सहित शिरडी के आसपास 25 गांवों में पूरी तरह बंद रहा।’ वहीं, जिला प्रशासन अधिकारी ने बताया कि पहले से होटल बुक करने वाले श्रद्धालुओं को वहां रहने की अनुमति है और हवाई अड्डे से मंदिर तक टैक्सी सेवाएं भी सामान्य हैं। अन्य स्थानों से आने वाली राज्य परिवहन बसों को भी शहर में आने की अनुमति है।

हमने दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध दिया है : पीएम नरेंद्र मोदी

बंद का बीजेपी विधायक ने किया समर्थन

शिरडी स्थित श्री साईं बाबा संस्थान न्यास के मुख्य कार्यकारी अधिकारी दीपक मुगलीकर ने बताया कि बंद के बावजूद मंदिर खुला रहेगा। स्थानीय बीजेपी विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा कि उन्होंने स्थानीय लोगों द्वारा बुलाए गए बंद का समर्थन किया है।

‘बयान वापस लें सीएम’

मुगलीकर ने कहा, ‘मुख्यमंत्री को साईं बाबा का जन्मस्थान पाथरी होने संबंधी बयान को वापस लेना चाहिए। देश के कई साईं मंदिरों में एक पाथरी में भी है। सभी साईं भक्त इससे आहत हुए हैं, इसलिए इस विवाद को खत्म होना चाहिए।’ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने भी शुक्रवार को कहा था कि पाथरी में विकास का विरोध जन्मस्थान विवाद की वजह से नहीं किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *