Child Protection Commission

बाल आयोग अध्यक्ष की बर्ख़ास्तगी की मांग को लेकर फूंका पुतला

-सामाजिक कार्यकर्ता गिरीश तिवारी के नेतृत्व में दहन किया पुतला
-कांग्रेस-शिवसेना ने भी की हटाने की मांग

अंबेडकर, 30 जून (योगेश कुमार सोनी): उत्तर प्रदेश राज्य बाल संरक्षण आयोग (Child Protection Commission) के खिलाफ लोग भड़के हुए हैं। आयोग के अध्यक्ष विशेष कुमार गुप्ता को पद से हटाने को लेकर जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं। जबसे कानपुर बालिका गृह का मामला सामने आया है तभी से लोग गुस्से में हैं।

विरोध में मंगलवार को सामाजिक कार्यकर्ता गिरीश तिवारी की अगुवाई में अंबेडकर जिले में यूपी बाल संरक्षण आयोग (Child Protection Commission) के अध्यक्ष डॉ. विशेष कुमार गुप्ता का पुतला दहन कर मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से उनकी बर्ख़ास्तगी की मांग की है। सामाजिक दूरियों का ख्याल रखते हुए कस्बे के लोग एक चैहराए पर एकत्र हुए। अध्यक्ष के खिलाफ़ नारेबाज़ी की, मुर्दाबाद के नारे लगाए, उसके बाद उनके पुतले को आग के हवाले कर दिया।

Child Protection Commission

इस मौके पर गिरीश तिवारी ने बताया कि डाॅ. गुप्ता आयोग के योग्य व्यक्ति नहीं है। कुछ समय पहले उन्होंने जिले में बच्चों के संबंध में एक शिकायत दी थी जिसको उन्होंने अनदेखा किया। लेकिन अब कानपुर का मामला सामने आने के बाद ये बात साफ हो गई है कि वह आयोग (Child Protection Commission) चलाने योग्य व्यक्ति नहीं हैं। इसलिए हम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से उन्हें तत्काल बर्खास्त करने की मांग करते हैं। पुतला दहन के वक्त आलोक तिवारी शशांक तिवार, स्वपनिल, कौशिक, राजन, सुरेश तिवारी, जय प्रकाश, नरेंद्र देव, प्रतीक, आर्दश, राकेश, शहजाद, विशाल, छप्पन मियाँ, आदि मौजूद रहे।

बता दें, कानपुर घटना के बाद पूरा सूबा बाल आयोग (Child Protection Commission) के खिलाफ मुखरित है, उन्हें पद से हटाने को लेकर सीएम पर भारी दवाब डाला जा रहा है। वहीं, आज शिवसेना प्रदेश अध्यक्ष अनिल सिंह के नेतृत्व में भी एक डेलिगेशन उत्तर प्रदेश की राज्यपाल मोहदया से मिलने पहुंच रहा है। सुल्तानपुर से भी खबर मिली है वहां भी कांग्रेस कार्यकर्ता बाल आयोग के खिलाफ पुतला फूकेंगे। कांग्रेस महासचिव प्रियंका आयोग ने भी आयोग की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं।

आयोग के अध्यक्ष ने खुन्नस में आकर उन्हें नोटिस भेजा है, तभी से पूरी कांग्रेस पार्टी आयोग के मुखिया के खिलाफ मुखर हो गई है। बहरहाल, कानपुर मामले में सीएम योगी आदित्य नाथ खुद नजर बनाए हुई हैं, ये तय है वह दोषियों को बख्शेंगे नहीं? मौजूदा बाल आयोग की कार्यशैली से वह बेहद गुस्से में भी बताए जा रहे हैं। आयोग के अध्यक्ष को हटाने का निर्णय भी जल्द ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *