कोविड के बाद अब महंगाई से मारने लगी मोदी सरकार : सुनील जाखड़

Sunil Jakhar

-देश पर भारी पड़ने लगा है प्रधानमंत्री का अहंकार

-कांग्रेस पार्टी द्वारा पेट्रोल पंपों पर तेल कीमतों में वृद्धि के खिलाफ रोष प्रदर्शन

जालंधर, 11 जून (अश्विनी ठाकुर)। पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सत्ता का अहंकार देश पर भारी पड़ने लगा है और लाखों लोगों के कोविड-19 से अपनी जान खो देने के बाद भी केंद्र सरकार ने कोई सबक नहीं लिया है व अब डीजल पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि करके लोगों को आर्थिक तौर पर मारना शुरू कर दिया है।

इस अवसर पर साबका मंत्री जगमोहन सिंह कंग भी हाजिर थे। आज कुराली में कांग्रेस पार्टी द्वारा पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमतों के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शनों की श्रंखला में आयोजित धरने के अवसर पर संवाददाताओं से बातचीत करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सत्ता के अहंकार में मोदी सरकार ने देश के आम लोगों को पूरी तरह से भुला दिया है। उन्होंने कहा कि पहले कोविड-19 के कू- प्रबंधन के कारण देश के लाखों परिवारों ने अपने परिवारिक सदस्यों को खो दिया है और अब महंगाई के द्वारा देश की सरकार लोगों का कचूमर निकालने पर तुली हुई है।

कोविड की दूसरी लहर से पहले वैक्सीन अपने देशवासियों को उपलब्ध करवाने की बजाय विदेशियों को बेचना. ऑक्सीजन, दवाइयों आदि की कालाबाजारी ने देश में दयनीय हालात पैदा कर दिए थे और गंगा के किनारे मोदी सरकार की नाकामी के गवाह बन गए जहां हजारों बदनसीब लोगों को दफनाना पड़ा। श्री जाखड़ ने कहा कि मोदी सरकार तेल कीमतों में लगातार वृद्धि करके निजी कंपनियों के पंपों को लाभ पहुंचा रही है। जबकि आम लोग व किसान इस महंगाई में पिस रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 13 महीनों में पेट्रोल 25.72 रुपए और डीजल 23.93 रुपए महंगा हुआ है वह इस साल भी 43 बार तेल कीमतों में वृद्धि की गई है।

श्री जाखड़ ने कहा कि जब श्री मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे तो कच्चा तेल 125 डॉलर प्रति बैरल था और डीजल की कीमत 54 रुपए थी जब के अब कच्चा तेल आधी कीमत पर मिल रहा है व डीजल की कीमत लगभग दोगुनी कर दी गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र सरकार पंजाब को आरडीएफ. जीएसटी की अदायगी नहीं कर रही है व हर तरीके से पंजाब को दबाया जा रहा है। जबकि डीजल पेट्रोल पर से टैक्स के रूप में केंद्र सरकार प्रत्येक वर्ष ₹300000 करोड एकत्र करती है पर आम लोगों को इसका कोई लाभ नहीं हो रहा है। उन्होंने इस अवसर पर आम लोगों को केंद्र सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ उठ खड़े होने का आह्वान किया।