गंगा नदी में पानी बढ़ने की आशंका से प्रसाशन अलर्ट

increasing water in river Ganga

-कल्पवासियों को ढाई घाट से सुरक्षित जगह पहुंचाया

शाहजहांपुर, 07 फरवरी (राम निवास शर्मा मैथिल)। उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने और बांध के टूट जाने के चलते यहां गंगा नदी के किनारे कल्प बास कर रहे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा रहा है तथा गंगा के किनारे बसे ग्रामीणों को भी प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है।

जिलाधिकारी इंद्र कुमार सिंह ने प्रेस को बताया कि जिले के मिर्जापुर थाना अंतर्गत ढाई घाट गंगा नदी पर माघ माह में कल्प बासी पूरे माह वहीं पर झोपड़ी डालकर नित्य स्नान करते हैं और पूजा अर्चना करते हैं तथा पूरे माह मेला लगा रहता है परंतु ग्लेशियर फटने के कारण एहतियातन सुरक्षा की दृष्टि से अलर्ट जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि गंगा नदी के किनारे कल्पवास कर रहे तथा गंगा नदी के दोआब क्षेत्र में झोपड़ी डालकर रह रहे लगभग 100 कल्प वासियों को सुरक्षित ऊंचे स्थान पर पहुंचाने का काम प्रशासन कर रहा है।

पुलिस अधीक्षक एस. आनंद ने बताया कि गंगा नदी के किनारे बसे पैलानी उत्तर ,पंखिड़ा नगला समेत एक दर्जन गांव में पुलिस द्वारा लाउडस्पीकर से जानकारी दी जा रही है तथा उन्हें सुरक्षित स्थान पर पहुंचने को कहा जा रहा है एवं इन लोगों के लिए कैंप की व्यवस्था भी प्रशासन द्वारा की जा रही है। उन्होंने बताया कि कलान मिर्जापुर तथा परौर थाने की पुलिस को ढाई घाट पर लगाया गया है ताकि यह लोग कल्प वासियों को सुरक्षित ऊंचे स्थान पर पहुंचा सके।

आपको बता दें कि ढाई घाट गंगा नदी पर इस समय तकरीबन 400 के आसपास कल्प वासी गंगा नदी के किनारे रह रहे हैं। चमोली के ग्लेशियर फटने से गंगा नदी में पानी बढ़ने की आशंका प्रबल हो गई है प्रशासन ने मुनादी कर के आस-पास के गांव में डुगडुगी पिटवा दी है, वहीं ढाईघाट पर मौजूद साधु संतों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है।