video of police barbarity at guna in mp

ऐक्शन मोड में आए CM शिवराज, गुना में किसान परिवार की पिटाई के मामले में 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड

New Delhi: मध्यप्रदेश के गुना (Guna Case) में अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंची पुलिस ने किसान दंपति की लाठियों से पिटाई करने के मामले में शिवराज सरकार (Shivraj Sarkar) ने कार्रवाई करते हुए 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है।

मंगलवार को गुना (Guna Case) कैंट इलाके में कॉलेज की जमीन पर कब्जा हटाने के दौरान वहां खेती कर रहे किसान दंपती ने कीटनाशक पी लिया था। इसी दौरान पुलिस ने किसान के स्वजनों पर लाठीचार्ज किया था।

इससे पहले इस मामले में शिवराज सिंह चौहान सरकार ने उच्च स्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं। साथ ही तत्काल कार्रवाई करते हुए सीएम शिवराज ने गुना के डीएम और एसपी को हटा दिया है।

दलितों की पिटाई पर राहुल गांधी ने साधा निशाना

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मध्य प्रदेश के गुना में एक दलित दंपति की पुलिस द्वारा कथित तौर पर निर्दयता से पिटाई की घटना को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस की लड़ाई इसी सोच व अन्याय के खिलाफ है। राहुल गांधी ने घटना से जुड़ा वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘हमारी लड़ाई इसी सोच और अन्याय के ख़िलाफ़ है।’

प्रियंका गांधी ने वीडियो शेयर कर आरोप लगाया, ‘ गरीबों पर हमला, दलितों पर हमला, किसान पर हमला, लोकतंत्र पर हमला, यही तो है बीजेपी का चाल, चेहरा और चरित्र।’ उन्होंने कहा, ‘इस अन्याय के ख़िलाफ कांग्रेस जी-जान से लड़ेगी।’ कांग्रेस की किसान इकाई ‘किसान कांग्रेस’ ने इस घटना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया कि इस मामले में संज्ञान लेकर संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

‘बीजेपी की सरकारों में किसानों और दलितों पर हमले आम बात’

किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोलंकी ने कहा, ‘बीजेपी की सरकारों में किसानों और दलितों पर हमले आम बात हो चुकी है। इसलिए हम सीधे प्रधानमंत्री से आग्रह कर रहे हैं कि वह ऐसे मामलों में कार्रवाई सुनिश्चित करें।’उन्होंने कहा कि वह और किसान कांग्रेस के दूसरे पदाधिकारी जल्द ही गुना जाएंगे और इस मामले में सख्त कार्रवाई के लिए प्रशासन पर दबाव बनाएंगे।

अतिक्रमण हटाने के नाम पर हुई थी दलित की पिटाई

गौरतलब है कि गुना के जगनपुर क्षेत्र में एक सरकारी मॉडल कॉलेज के निर्माण के लिये निर्धारित सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने के दौरान पुलिस ने कथित तौर पर दलित दंपति की पिटाई की थी।

दंपति ने मंगलवार को इस मुहिम के विरोध में कीटनाशक पी लिया। इस घटना को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार रात गुना के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए हैं । इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने इस घटना की उच्च स्तरीय जांच के आदेश भी दिए हैं।

मामले की जांच के लिए कांग्रेस ने समिति बनाई

मध्य प्रदेश के गुना जिले में एक दलित परिवार के सदस्यों की पिटाई के मामले की जांच के लिए कांग्रेस ने जांच समिति बनाई है। यह समिति शुक्रवार को गुना जाएगी और अपनी रिपोर्ट प्रदेशाध्यक्ष कमल नाथ को सौंपेगी। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ ने गुना मे दलित किसान परिवार के साथ पुलिस दुर्व्यवहार की घटना की निंदा की है।

साथ ही घटना की जांच के लिए सात सदस्यीय समिति बनाई है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा के अनुसार, इस समिति में पूर्व मंत्री बाला बच्चन, रामनिवास रावत, जयवर्धन सिंह, पूर्व विधायक फूल सिह बरैया, कार्यवाहक प्रदेशाध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी, विधायक हीरा लाल अलावा और प्रदेश प्रवक्ता विभा पटेल को सदस्य बनाया गया है। सलूजा के अनुसार, यह समिति 17 जुलाई को गुना पहुंचकर पूरे मामले की जांच करेगी और प्रदेशाध्यक्ष केा अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

दलित दंपति की पिटाई के मामले की त्वरित और निष्पक्ष जांच हो: महिला आयोग

राष्ट्रीय महिला आयोग ने मध्य प्रदेश के गुना में एक दलित दंपति की पुलिस द्वारा कथित तौर पर निर्दयता से पिटाई की घटना को लेकर बृहस्पतिवार को राज्य पुलिस से कहा कि इस मामले में त्वरित एवं निष्पक्ष जांच सुनिश्चित की जाए।

महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने मध्य प्रदेश के पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी को लिखे पत्र में कहा, ‘इस घटना को लेकर आयोग बेहद चिंतित है। पुलिस की भूमिका और कर्तव्य होता है कि वह कानून व्यवस्था की रक्षा करे, अपराध रोके और अपराध होने के कारणों को कम करे।’उन्होंने कहा कि इस मामले की गंभीरता को देखते हुए त्वरित एवं निष्पक्ष जांच कराई जाए और रिपोर्ट जल्द से जल्द आयोग के समक्ष भेजी जाए।

डीएम एसपी पहले ही हटाए गए

गौरतलब है कि गुना के जगनपुर क्षेत्र में एक सरकारी मॉडल कॉलेज के निर्माण के लिये निर्धारित सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने के दौरान पुलिस ने एक दलित दंपति की कथित तौर पर पिटाई की थी। दंपति ने मंगलवार को इस मुहिम के विरोध में कीटनाशक पी लिया।

इस घटना को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार रात गुना के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने इस घटना की उच्च स्तरीय जांच के आदेश भी दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *