गाजियाबाद श्मशान हादसा में बड़ा खुलासा! आरोपी ठेकेदार अजय त्‍यागी ने दी थी 16 लाख की रिश्‍वत

Webvarta Desk: श्मशान (Muradnagar Crematorium) में छत गिरने की घटना के आरोपी ठेकेदार अजय त्‍यागी (Ajay Tyagi) को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस पूछताछ में अजय त्यागी ने कबूल किया है कि उसने मुरादनगर नगर पालिका अधिकारियों को ठेके लिए मोटी रिश्वत दी थी।

बता दें कि मुरादनगर के एक श्मशान घाट में आश्रय की छत (Muradnagar Crematorium) रविवार को ढह जाने से 25 लोग की मौत हुई थी और 17 लोग घायल हो गए थे। इसमें से अधिकांश लोग एक अंतिम संस्कार में शामिल होने आए थे।

पूछताछ में अजय त्यागी ने दावा किया कि उन्होंने इस टेंडर के लिए 16 लाख रुपये की रिश्वत दी। उन्होंने छत के निर्माण के लिए खराब सामग्री का उपयोग करना स्वीकार किया। त्यागी के अनुसार, उन्होंने टेंडर को सुरक्षित करने के लिए जूनियर इंजीनियर और अन्य अधिकारियों को 30 प्रतिशत कमीशन का भुगतान किया।

त्यागी ने शुरू में श्मशान भूमि के नवीनीकरण का ठेका हासिल किया था, लेकिन उन्होंने साइट पर काम जारी रखने के लिए कार्टेल का निर्माण किया और छत का निर्माण किया। त्यागी ने मुरादनगर नगर पालिका के साथ तीन फर्म – अजय त्यागी कंस्ट्रक्शन, माही कंस्ट्रक्शन एंड बिल्डर्स और कृष्णा एसोसिएट्स को पंजीकृत किया था। वह हर साल 20-25 करोड़ रुपये के टेंडर लेता था।

हादसे के बाद से फरार ठेकेदार अजय त्यागी को सोमवार रात मुरादनगर और निवाड़ी पुलिस की संयुक्त टीम ने सथेड़ी गांव के गंगा नहर पुल के पास नाका लगाकर पकड़ा था। इससे पहले, गाजियाबाद पुलिस ने मुरादनगर नगर पालिका के कार्यकारी अधिकारी निहारिका सिंह, जूनियर इंजीनियर चंद्र पाल और पर्यवेक्षक आशीष को इस मामले में गिरफ्तार किया था।