Thursday, March 4, 2021
Home > State Varta > 104 पूर्व ब्यूरोक्रेट्स ने लिखा CM योगी को पत्र, कहा- ‘वापस लो लव जिहाद कानून’

104 पूर्व ब्यूरोक्रेट्स ने लिखा CM योगी को पत्र, कहा- ‘वापस लो लव जिहाद कानून’

Webvarta Desk: Bureaucrats Writes to Cm Yogi: योगी सरकार (Yogi Govt) द्वारा उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में लागू किए गए धर्मांतरण कानून (Love Jihad Law) के खिलाफ 104 ब्यूरोक्रेट्स ने सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को पत्र लिखा है। इस पत्र में कानून के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए पूर्व ब्यूरोक्रेट्स ने इसे निरस्त करने की मांग की है।

कानून (Love Jihad Law) को अवैध बताते हुए पूर्व ब्यूरोक्रेट्स (Bureaucrats) ने इसकी वजह से पीड़ित लोगों को मुआवजे की भी मांग की गई है। साथ ही कहा है कि इस कानून की वजह से यूपी की गंगा जमुनी तहजीब को चोट पहुंची है और समाज में सांप्रदायिकता का जहर फैला है।

पिंकी प्रकरण का जिक्र

सीएम योगी (Yogi Adityanath) को लिखे पत्र में पूर्व ब्यूरोक्रेट्स ने मुरादाबाद के पिंकी प्रकरण का जिक्र भी किया है। पत्र में कहा गया है कि पिंकी ने अपनी मर्जी से रशीद से शादी की। लेकिन जब वह अपने शादी को पंजीकृत कराने जा रही थी, तो बजरंग दल के लोगों ने उसे रोक लिया और मारपीट की। इस दौरान पुलिस मूकदर्शक बानी रही।

पत्र में आगे लिखा गया, इतना ही नहीं राशीद और उसके भाई को जेल भेज दिया गया। पिंकी को शेल्टर हाउस भेजा गया और उसका गर्भपात भी हो गया। यह गर्भपात नहीं बल्कि एक अजन्मे बच्चे की हत्या थी। पिंकी द्वारा कोर्ट में दिए गए बयान के बाद उन्हें छोड़ा गया। यह पूरी तरह से कानून का दुरूपयोग था क्योंकि जब दोनों ने जुलाई में शादी की थी तो यह कानून नहीं आया था।

लोगों को अपनी मर्जी से जीवनसाथी चुनने का अधिकार

पत्र में आगे कहा गया है कि यह एक वारदात है जिसके तहत एक आजाद देश में रहने की आजादी का हनन है। उन्होंने आगे किसी पॉलिटिकल पार्टी से नहीं जुड़े हैं, लेकिन संविधान द्वारा भारत की परिकल्पना को लेकर संकल्पबद्ध हैं।

पत्र में कहा गया है कि कई अवसरों पर हाई कोर्ट भी यह कह चुका है कि दो बालिग़ लोग अपनी मर्जी से रहने और जीवनसाथी चुनने को स्वतंत्र हैं, लेकिन नया कानून इस आजादी में दखलंदाजी है। इसकी आड़ में पुलिस सरकार के लोगों के साथ मिलकर तानाशाह हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *